आमला (नवदुनिया न्यूज)। व्यवहार न्यायालय आमला में नेशनल लोक अदालत का आयोजन किया गया। अपर जिला न्यायाधीश अतुल राज भलावी, व्यवहार न्यायाधीश वर्ग एक एनएस ताहेड़, न्यायाधीश वर्ग दो रीना पिपलिया ने महात्मा गांधी के छाया चित्र के समक्ष दीप प्रज्वलित कर माल्यार्पण कर लोक अदालत का विधिवत शुभारंभ किया। आमला न्यायालय में तीन खंड पीठ का गठन किया गया था। न्यायाधीश अतुल राज भलावी के न्यायालय में चार प्रकरणों का निराकरण हुआ। व्यवहार न्यायाधीश एनएस ताहेड के न्यायालय में 50 प्रकरणों का निराकरण हुआ 11 साल पुराने पति- पत्नी के तीन मामले चल रहे थे। एक मामले में वर्ष 2016 से वसूली की कार्रवाई चल रही थी। जिसमें नौ लाख पचहत्तर हजार रुपये एकमुश्त देकर दोनों पक्षों में आपसी सुलह हो गई। अन्य दो मामलों में भी लगभग 600000 पति ने पत्नी को देकर आपस में सुलह कर ली। एक घरेलू हिंसा के मामले में पति-पत्नी के मध्य कुछ मतभेद थे। पत्नी तीन माह से मायके में निवास कर रही थी। पति तलाक लेने पर अड़ा हुआ था। पत्नी साथ जाने को तैयार थी। दोनों दंपत्ति के दो बच्चे थे लेकिन दोनों आपसी मतभेद की वजह से तीन माह से अलग अलग रह रहे थे। न्यायाधीशों की समझाइश के बाद दोनों पति पत्नी साथ जाने को तैयार हो गए। मामा भांजी के एक मारपीट के चर्चित मामले में न्यायाधीश की समझाइश के बाद 70 वर्षीय मामा ने भांजी से माफी मांगी और न्यायाधीश की समझाइस से दोनों खुशी-खुशी अपने घर चले गए। न्यायालय में घर घर तिरंगा अभियान के लिए जागरूकता कार्यक्रम भी आयोजित किया। विभिन्ना बैंकों के प्रबंधक, पक्षकारों एवं अधिवक्ताओं ने सभी को अपने घर पर नियमानुसार झंडा फहराने के लिए जागरूक किया। इस अवसर पर अधिवक्ता अनिल पाठक, केएन चौकीकर, राजेंद्र उपाध्याय खंडपीठ में शामिल थे। अधिवक्ता वेद प्रकाश साहू, रवि देशमुख, महेश कुमार सोनी, बृजेश कुमार सोनी, यशपाल ठाकुर, मोहम्मद शफी खान, रानी शेख, हरिशंकर पाल, दिलीप सोनी, केएल सोलंकी, हरी राम चौधरी, शिवपाल उबनारे, मधुकर महाजन, कल्पेश माथनकर, सुरेंद्र खातरकर, नाजीर ,सुनील बाथरी, डीएलओ शीतल कवड़े, न्यायालय कर्मचारी चंद्रभान नागले, राजेंद्र नागले, नरेंद्र यादव, दशरथ पवार, सोहन उइके, सुनील लोनारे, देवेंद्र मोखलगाये, गणेश पंडोले सहित बड़ी संख्या में पक्षकार और कर्मचारी उपस्थित थे।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close