बैतूल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। स्कूल शिक्षा विभाग अंतर्गत नवीन शैक्षणिक संवर्ग में नियुक्त किए गए लोक सेवकों को क्रमोन्नाति का लाभ नहीं मिलने पर अध्यापक संवर्ग ने प्रदेश सरकार के खिलाफ आक्रोश व्यक्त किया है। गौरतलब है कि ऐसे लोक सेवक जिनके द्वारा 12 वर्ष की सेवा 1 जुलाई 2018 अथवा इसके बाद पूर्ण की गई है तो उन लोक सेवकों को क्रमोन्नाति वेतनमान दिए जाने के संदर्भ में अध्यापक संवर्ग द्वारा आदेश जारी करने की मांग की जा रही है, लेकिन सरकार इन मांगों की ओर गंभीर नहीं है। इस संबंध में शुक्रवार को अध्यापक संवर्ग ने रैली की शक्ल में कलेक्ट्रेट पहुंचकर मुख्यमंत्री के नाम जिला कलेक्टर को ज्ञापन सौंपकर अपनी पीड़ा व्यक्त की है। मुख्यमंत्री को सौंपे आवेदन में अध्यापक संवर्ग के रवि सरनेकर ने बताया कि मध्यप्रदेश शासन द्वारा 27 जुलाई 2019 को जारी संदर्भित आदेश (1) के तहत मध्यप्रदेश मे कार्यरत अध्यापक संवर्ग को स्कूल शिक्षा विभाग के नवीन शिक्षक संवर्ग में नियुक्त किया गया है तथा 12 वर्ष पश्चात होने वाली क्रमोन्नाति के लिए अध्यापक संवर्ग में उनके द्वारा की गई सेवा अवधि की गणना करने का स्पष्ट प्रावधान है।

सरनेकर ने बताया उक्त आदेश के तहत प्रदेश के कई जिलों में 1 जुलाई 2018 एवं उसके पश्चात 12 वर्ष पूर्ण करने वाले नवीन शिक्षकों के संबंधित जिला शिक्षा अधिकारियों द्वारा क्रमोन्नाति आदेश जारी कर दिये गये थे एवं उन्हें क्रमोन्नात वेतनमान का नगद लाभ भी मिलने लगा था। लेकिन क्रमोन्नात वेतन मिलने के 3 वर्ष बाद दिनांक 8 मार्च 2021 को आयुक्त लोक शिक्षण द्वारा जारी संदर्भित आदेश (2) के द्वारा सामान्य प्रशासन विभाग का आदेश प्राप्त नहीं होने का हवाला देते हुए जिला शिक्षा अधिकारियों द्वारा जारी क्रमोन्नाति आदेशों को स्थगित कर दिया गया, जिसके चलते संबंधित डीडीओ द्वारा इन शिक्षकों का वेतन पुनः कम कर, बढ़े हुए वेतन की रिकवरी शुरू कर दी गई है। जिससे नवीन शिक्षक संवर्ग को बहुत ज्यादा आर्थिक नुकसान होने से वे काफी तनाव में है। इस स्थिति में अध्यापक संवर्ग ने 1 जुलाई 2018 एवं उसके पश्चात 12 वर्ष पूर्ण करने वाले नवीन शिक्षक संवर्ग की क्रमोन्नाति के आदेश तत्काल जारी करने का आग्रह किया है। ज्ञापन सौंपने के दौरान सूर्यभान कवरेती, एसके पाटिल, एसके इवने, दिलीप उईके, जगदीश दौड़के, सुनील बेले, प्रदीप कुमार पांसे, हरिराम चरपे, निकलेश, रवि अतुलकर, कमलेश नागले, सतीश महाजन, जगदीश बिश्नोई, कृष्ण कुमार मन्नाासे, मंजूषा मर्सकोले, आजाबराव नागले, रामचंद्र पोटफोड़े, श्यामराव बारंगे, चंदूलाल नागवंशी, बलराम मर्सकोले, शामिनी देव, संगीता माकोड़े, आशा सरनेकर, ममता साहू, प्रमोद कुमार जैन, गणेश धकाते सहित अनेक अध्यापक शिक्षक मौजूद थे।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local