बैतूल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। जिले में मक्का की पैदावार अधिक होने के कारण कृषि उपज मंडी बडोरा में क्षमता से तीन गुना अधिक आवक हो रही है। ऐसे में किसान तीन दिन तक तौल का इंतजार करने मजबूर हो रहे हैं। बुधवार को 33 हजार बोरा आवक होने से गुरुवार को दिन भर तौल का काम चलता रहा। मौसम का मिजाज बिगड़ने से किसान मंडी प्रांगण में पड़ी मक्का को सुरक्षित करने के लिए प्रयास करते रहे। हालांकि दोपहर बाद धूप खिल जाने से किसानों को राहत मिल गई। मंडी प्रबंधन ने किसानों को हो रही परेशानी को दूर करने के लिए अब टोकन देना प्रारंभ किया है। गुरुवार को 18 हजार बोरा क्षमता की आवक के हिसाब से किसानों को टोकन का वितरण किया गया। इन किसानों को शनिवार के दिन मंडी में उपज लेकर पहुंचने के लिए कहा गया है। शुक्रवार को भी मक्का की खरीदी बंद रखी गई है ताकि तौल और परिवहन का काम पूरा हो सके। मंडी प्रबंधन के द्वारा प्रतिदिन दोपहर दो बजे से 5.30 बजे तक किसानों को टोकन दिए जाएंगे। किसानों से उनके द्वारा मंडी में बेचने के लिए लाई जाने वाली अनुमानित उपज को आधार बनाकर 18 हजार बोरा क्षमता पूरी की जाएगी। इससे मंडी में हर दिन 18 हजार बोरा मक्का की आवक होगी और इसकी विधिवत नीलामी के बाद तौल और परिवहन भी किया जा सकेगा। इससे मंडी के बाहर लगने वाले जाम एवं किसानों को रतजगा करने से मुक्ति मिल जाएगी।

मंडी गेट पर बनाई व्यवस्थाः

मंडी प्रबंधन के द्वारा मंडी गेट के पास दो कर्मचारियों को टोकन का वितरण करने के लिए तैनात किया गया है। इनके द्वारा किसानों का नाम, मोबाइल नंबर एवं उपज की मात्रा दर्ज कर मंडी की सील लगाकर टोकन प्रदान किया जा रहा है। किसानों को प्रदान किए जा रहे टोकन में उपज लेकर मंडी आने की दिनांक भी दर्ज की जा रही है। इस व्यवस्था से एक दिन में 18 हजार बोरा से अधिक मक्का की आवक नहीं हो पाएगी और किसानों को भी निर्धारित दिनांक पर मंडी पहुंचने की सुविधा मिल सकेगी।

मंडी में की अलाव की व्यवस्थाः

ठंड के जोर पकड़ने के कारण किसानों को हो रही परेशानी दूर करने के लिए अलाव की व्यवस्था भी बनाई गई है। मंडी सचिव एसके भालेकर ने बताया कि मंडी में विभिन्ना स्थानों पर अलाव जलाए गए हैं वहीं कृषक विश्राम गृह और केंटीन की सुविधा भी किसानों को दी जा रही है। मंडी में उपज की तौल कराने के लिए रात में ठहरने वाले किसानों को किसी भी प्रकार की परेशान न हो सके इसका ध्यान भी रखा जा रहा है।

किसानों को टोकन का वितरण करने में मनमानी करने जैसी स्थिति निर्मित न हो इसके लिए पारदर्शी व्यवस्था बनाई गई है। सीसीटीवी कैमरों से भी निगरानी की जा रही है ताकि शिकवा, शिकायत की नौबत न आ सके।

हर दिन होगी मक्का की खरीदीः

किसानों से जिस तरह एसएमएस भेजकर गेहूं की समर्थन मूल्य पर खरीदी की जाती है उसी तरह टोकन देने की व्यवस्था बनाई गई है। हर दिन 18 हजार बोरा की आवक को सुनिश्चित करने के लिए उतनी मात्रा लाने के लिए किसानों को तिथि बताई जाएगी। मंडी सचिव भालेकर ने बताया कि सोमवार से प्रयास किया जाएगा कि हर दिन 18 हजार बोरा की आवक होगी और उसकी नीलामी की जाएगी। ऐसे में एक ही दिन में 30 से 40 हजार बोरा आवक की समस्या भी हल हो जाएगी। अभी सप्ताह में तीन दिन मंडी में मक्का की खरीदी होने से करीब एक लाख बोरा की आवक होती है। सप्ताह में छह दिन आवक होने से एक लाख बोरा से अधिक की आवक हो जाएगी।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local