भिंड, नईदुनिया प्रतिनिधि। अयोध्या फैसले को लेकर जिलेभर में हाई अलर्ट घोषित कर दिया गया है। पुलिस ने अपनी सक्रियता बढ़ा दी है, वहीं जिले में शांति व्यवस्था बनाए रखने के उद्देश्य से गुरुवार को कलेक्टर छोटेसिंह ने धारा 144 लागू कर दी है। जारी किए गए सभी आदेश 7 नवंबर से 15 दिसंबर तक जिले में लागू रहेंगे। इस आदेश के लागू होते ही जिले में कहीं भी धरना, प्रदर्शन, रैलियों पर रोक लग गई है।

धरना प्रदर्शन और रैली निकालने से पहले अब सक्षम अधिकारी की अनुमति लेना अनिवार्य कर दिया गया है। इतना ही नहीं, कोई भी व्यक्ति अब अपने साथ किसी भी प्रकार का शस्त्र लेकर भी नहीं चल सकेगा। पांच या इससे अधिक व्यक्तियों का समूह भी एक साथ कहीं पर खड़ा नहीं हो पाएगा। यदि कोई इस आदेश को उल्लंघन करता है तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

ग्रुप एडमिन पर होगी कार्रवाई

कलेक्टर ने कहा कि कोई भी व्यक्ति समुदाय,संगठन सोशल मीडिया में किसी भी प्रकार के पोस्ट, संदेश, चित्र ऑडियो या वीडियो शामिल है, जिसमें धार्मिक, सामाजिक, जातिगत आदि भावनाएं भड़क सकती हैं या साम्प्रदायिक विद्वेष पैदा होता हो, उसे प्रसारित नहीं करेगा या भेजगा। कोई भी व्यक्ति/समुदाय/संगठन आपत्तिजनक नारेबाजी, उन्माद फैलाने वाले भाषण एवं भडकाऊ पर्चे छपवाकर बांटना आदि कार्य नहीं करेगा और न ही उक्त कार्य करने के लिए प्रेरित करेगा। कोई भी व्यक्ति/ समुदाय/संगठन विभिन्न इंटरनेट तथा सोशल मीडिया के प्लेटफार्म जैसे फेसबुक, व्हाट्सएप, ट्वीटर, एसमएस, इस्टाग्राम इत्यादि संसाधनों का दुरूपयोग धार्मिक, सामाजिक, जातिगत आदि भावनाओं को भड़काने के लिए नहीं करेगा। सोशल मीडिया के किसी भी पोस्ट जिसमें धार्मिक भवना एवं सांप्रदायिक भावना व जातिगत भावना भड़कती हो, को लाइक या फारवर्ड नहीं करेगा। अगर ऐसा करता है तो ग्रुप एडमिन की व्यक्तिगत जिम्मेदारी होगी और उसी पर कार्रवाई की जाएगी।

एक साथ खड़े नहीं हो सकेंगे 5 लोग

कलेक्टर ने कहा कि कोई भी व्यक्ति अथवा समूह किसी भी शासकीय/ अशासीय/ अर्द्ध शासकीय कार्यालय के समक्ष भीड़ के रूप में एकत्रित नहीं होंगे। कोई भी व्यक्ति या समूह किसी धरना, रैली, प्रदर्शन का न तो करेगा और न उसमें भाग लेगा। साथ ही सभा भी आयोजित नहीं करेगा। करेगा। कोई व्यक्ति या समूह सार्वजनिक स्थान पर शस्त्र, लाठी, डंडा, भाला, पत्थर, चाकू या अन्य धारदार हथियार साथ लेकर नहीं चलेगा।

किराएदार की जानकारी थाने में दें

कलेक्टर ने आदेश में कहा कि कोई भी मकान मालिक प्रतिबंधित अवधि तक अपना मकान या उसका कोई भाग किराए पर नहीं देंगे। साथ ही जिनके यहां किराएदार या पेंइग गेस्ट हैं उसकी जानकारी संबंधित थाने में दें। वहीं कोई भी धर्मशाला, लॉज संचालक उनके परिसर में स्थिति किसी भी कक्ष का उपयोग किसी भी व्यक्ति को जब तक नहीं करने देंगे जब तक कि निर्धारित फार्म में व्यक्तिगत जानकारी मय आधार कार्ड आदि परिचय पत्र के रजिस्टर में दर्ज न कर लें।

Posted By: Nai Dunia News Network