भिंड (फूफ)। ग्वालियर-इटावा राष्ट्रीय राजमार्ग पर सोमवार को फूफ में सड़क हादसे के बाद शर्मनाक मंजर सामने आया। यहां गिट्टी से भरे डंपर की चपेट में आने से युवती का बायां हाथ डंपर के पहिए के नीचे आकर पूरी तरह से अलग हो गया। घायल युवती सड़क पर पड़ी बुरी तरह से तड़पती रही। यहां लोग मदद करने के बजाए उसका वीडियो बनाने लगे। करीब 10 मिनट तक मदद नहीं मिलने से युवती ने मौके पर ही दम तोड़ दिया।

फूफ थाने के नरीपुरा गांव निवासी पिंकी उर्फ प्रियंका (16) पुत्री बालकदास जाटव सोमवार को चचेरे भाई मनीष के साथ साइकिल पर बैठकर फूफ में डॉक्टर से दवा लेकर लौट रही थी। दोपहर करीब 1 बजे आरटीओ कॉलोनी के सामने हाइवे पर बने ब्रेकर पर साइकिल पहुंची तो इसी दौरान ग्वालियर से इटावा की ओर जा रहे गिट्टी से भरे डंपर क्रमांक एमपी 07 एचबी 6214 के ड्राइवर ने टक्कर मार दी। पिंकी साइकिल से नीचे सड़क पर गिरी और उसका बायां हाथ डंपर के पहिए के नीचे आकर धड़ से अलग हो गया। हादसे के बाद ड्राइवर डंपर छोड़कर भाग निकला। इधर घायल पिंकी सड़क पर पड़ी तड़पती रही।

हादसे की सूचना पर पहुंची पुलिस पिंकी के शव को लेकर जिला अस्पताल आ गई। चचेरा भाई घटनास्थल पर ही छूट गया था। जिला अस्पताल में पुलिस ने युवती के पर्स को चेक किया। पर्स में मिले मोबाइल से नंबर निकालकर एएसआई रघुवीर सिंह ने कॉल किया। कॉल चेन्नई में युवती के जीजा के पास रिसीव हुआ। एसआई ने जीजा को हादसे के बारे में बताया। गांव में युवती के भाई का नंबर लेकर उन्हें हादसे की सूचना दी।

हाइवे पर 2 किमी लंबा जाम लगा

पिंकी की मौत से लोगों में आक्रोश था। लोगों ने हाइवे पर चक्काजाम कर दिया। इससे हाइवे पर भिंड और इटावा की ओर करीब 2 किमी लंबा जाम लगा रहा। फूफ टीआई संजय सोनी जाम खुलवाने में लगे रहे। एसपी रूडोल्फ अल्वारेस ने भिंड से कोतवाली टीआई उदयभान सिंह यादव को भेजा। पुलिस अफसरों से लोगों ने स्पष्ट कह दिया कि जब तक युवती के परिजन नहीं आ जाते, जाम नहीं खुलेगा। करीब 30 मिनट बाद परिजन आए तब लोगों ने जाम खोला। पिंकी की मौत से मां मालती देवी का रो-रोकर बुरा हाल है।

गिट्टी से भरे डंपर की चपेट में आकर युवती की मौत हो गई। हादसे के बाद लोगों ने चक्काजाम किया था, लेकिन पुलिस की समझाइश से लोग मान गए। डंपर जब्त किया है। ड्राइवर फरार हो गया है। उसे तलाश किया जा रहा है।

-संजय सोनी, टीआई, थाना फूफ

Posted By: Saurabh Mishra