फोटो सहित

गोरमी(नईदुनिया न्यूज) इस बार बारिश कम होने की वजह से अक्टूबर के माह में भी लोग गर्मी से बेहाल हैं। ऐसे में गोरमी क्षेत्र में जा रही अघोषित बिजली कटौती और ग्रामीण क्षेत्रों में कम वोल्टेज की समस्या ने किसानों की मुसीबत बढ़ा दी है। इस वजह से जहां गोरमी कस्बे में पेयजल संकट गहरा गया है। वहीं दूसरी ओर ग्रामीण क्षेत्रों में किसान अपने खेतों की सिंचाई नहीं कर पा रहे हैं।

कुछ माह से क्षेत्र में बिजली कटौती काफी बढ़ गई है, जिससे क्षेत्रवासी बेहाल हैं। इसके साथ ही दिनभर में 16 से 17 घंटे ही बिजली नसीब हो पा रही है। वहीं, ग्रामीण क्षेत्र में 10 घंटे बिजली मिल रही है। ऐसे में मुख्यमंत्री के दावे बेअसर साबित हो रहे हैं। सबसे ज्यादा परेशानी रात की अघोषित बिजली कटौती से है। उमस भरी गर्मी और मच्छरों के प्रकोप से लोग परेशान हैं। लोगों की दिनचर्या अस्त व्यस्त हो गई है और अवसाद के शिकार हो रहे हैं। इस समस्या को लेकर जनाक्रोश बढ़ रहा है।

बिजली नहीं होने से बढ़ी पेयजल की समस्याः

बिजली कटौती के कारण कस्बे में पेयजल संकट गहरा गया है। नगर परिषद द्वारा जल आपूर्ति के समय बिजली गुल रहने के कारण स्थानीय निवासियों को पेयजल की समस्या से परेशान होना पड़ रहा है। बिजली आने के बाद नगर परिषद द्वारा पेयजल आपूर्ति नहीं की जाती हैं, जिससे लोगों को निजी बोर या हैंडपंप से पानी भरने को मजबूर होना पड़ रहा है। सुबह से ही गर्मी और उमस भरे मौसम में लोग हैंडपंप पर पानी भरने क लिए खड़े हो जाते है। महिलाएं, पुरुष और बच्चे भी पानी के इंतजाम के लिए हैंडपंप पर लाइन लगाने को मजबूर हो रहे है। महिलाओं का कहना है किपानी के इंतजाम में घर गृहस्थी के अन्य कामों के लिए समय ही नहीं मिल पाता है।

किसान नहीं कर पा रहे पलेवाथ

इन दिनों सरसों बोवनी का कार्य चल रहा है। एक तरफ जहां नहरों में पानी नहीं छोड़ा गया। वहीं दूसरी ओर ग्रामीण क्षेत्रों में कम वोल्टेज आने की वजह से किसनों के ट्यूबवैल बंद पड़े हैं। हालत यह है कि खेतों में पलेवा नहीं होने की वजह से किसान सरसों की बोवनी करने से पिछड़ते जा रहे हैं।

व्यापार हो रहा प्रभावितः

बिजली कटौती से व्यापार चौपट हो रहा है। बिजली से संबंधित व्यापार आटा चक्की, तेल मील, इलेक्ट्रिक की दुकान, ब्यूटी पार्लर जैसे व्यापार प्रभावित हो रहे है। लाइट नहीं होने के कारण दुकानों में अंधेरा पसरा रहता है। ग्राहक दुकान में गर्मी और अंधेरे होने की वजह से दुकान के अंदर नहीं आते है। प्यापारियों का कहना है किबिजली नहीं होने के व्यापार ठप हो गया है। पहले लॉकडाउन में हमारी दुकानें बंद रहीं और अब पर्याप्त बिजली न मिल पाने की वजह से हमारा कामकाज प्रभावित हो रहा है।

गर्मी से बुजुर्ग एवं बच्चे बेहालः

बिजली कंपनी की मनमानी तरीके से की जा रही बिजली कटौती से स्थानीय रहवासी परेशान हो रहे हैं। उमस भरी गर्मी से कूलर और पंखे राहत दे रहे थे, लेकिन बिजली कंपनी की अघोषित कटौती के कारण लोगों का जीना बेहाल हो गया है। उमस भरी गर्मी में से छोटे बच्चों, महिला और बुजुर्गो को कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। स्थानीय लोगों का कहना है किएक बिजली जाने पर कई घंटों के बाद बिजली आती है।

क्षेत्र में अघोषति कटौती कहीं भी नहीं की जा रही है। मेंटेनेंस के चलते ही बिजली की सप्लाई बंद की जाती है।

गोपालधर दुबे, जेई बिजली कंपनी गोरमी

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020