फोटो सहितः-

भिंड. गोहद।

पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ ने गोहद की जनसभा में 2 दिन पहले मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की उस बात का जवाब दिया, जिसमें उन्होंने कहा था सिंधिया से पहले गोहद विधायक रणवीर जाटव उनके पास आए थे। कमल नाथ ने कहा, आपके विधायक क्या सौदा करने नहीं आए थे? मैंने यह गलती करी कि सौदा नहीं किया। मुझे मध्यप्रदेश के चरित्र की चिंता थी। राजनीतिक सिद्वांतों की चिंता थी। उन्होंने कहा न सौदा किया न आगे करूंगा। कमल नाथ ने कहा शिवराज सिंह चौहान ने सौदे की सरकार बना ली। सभा में इस दौरान पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह, पूर्व मंत्री डॉ गोविंद सिंह, मिर्ची बाबा, गोहद कांग्रेस प्रत्याशी मेवाराम जाटव, खिजर कुरैशी मौजूद रहे।

चुलाव प्रजातंत्र का उत्सव होता है, यह सौदेबाजी का उत्सव हैः

पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ ने कहा चुनाव प्रजातंत्र का उत्सव होता है। यह सौदेबाजी का उत्सव है। डॉ आंबेडकर ने संविधान बनाते समय कभी नहीं सोचा था ऐसा समय आएगा, जहां सौदेबाजी हो, बिकाऊ हो। बिकाऊ राजनीति होगी। उन्होंने सपने में नहीं सोचा था भारत जैसे देश में ऐसी अनैतिक राजनीति आएगी। कितना कलंकित किया है। पूरा देश कहता है मध्यप्रदेश में तो सब बिकाऊ है। इन्होंने ऐसी हालत की है। सौदा करके सरकार बना ली। आज नोट से बनी हुई सरकार है। हमारी सरकार 15 साल बाद वोट से बनी थी। इनकी नोट से बनी है। आज प्रजातंत्र नहीं। लोकतंत्र नहीं। अब तो यह धनतंत्र का जमाना लाए हैं। 15 साल बाद 15 महीने के लिए कांग्रेस की सरकार बनी। ढाई महीने लोकसभा चुनाव और आचार संहिता में गया। साढ़े 11 महीने में नीति, नियत का परिचय दिया।

भिंड-मुरैना वीरों की भूमि हैः कमल नाथ

पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ ने कहा चंबल की माटी को प्रणाम करता हूं। भिंड-मुरैना वीरों की भूमि है। प्रदेश में सबसे ज्यादा भिंड-मुरैना के जवान सीमाओं पर तैनात हैं। कमल नाथ ने कहा 15 साल इन्होंने प्रदेश को कहां घसीटा। अस्पतालों में डॉक्टर नहीं, स्कूल में शिक्षक नहीं। खंभे में तार नहीं। किसान बिना दाम के, नौजवान बिना काम के तो जनता पूछ रही थी शिवराज तो तुम किस काम के। शिवराज सिंह ने 15 हजार घोषणाएं कर दी। अच्छी एक्टिंग कर लेते हैं। सलमान खान का मुकाबला कर लेते। यह मुंबई जाएं। मध्यप्रदेश का नाम रोशन करें। कलाकारी करें। एक्टिंग करें। उन्होंने कहा मेरे साथ कोई डंपर नहीं जुड़ा। कोई ई-टेंडर का घोटाला नहीं जुड़ा। मेरे साथ कोई रेत का ठेका नहीं जुड़ा। प्रदेश की जनता इसकी गवाह है।

नाम 'एम' से शुरू तो कल्याण, 'जे' से बिकाऊः सिंह

पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने कहा सरकार गिराने में सिंधिया तो एक बहाना बने। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पोल खोल दी। सिंधिया तो सिर्फ मोहरा बने। अजय सिंह ने कहा ग्वालियर रियासत में नाम 'एम' और 'जे' से शुरू होता है। एम से शुरू होता है तो कल्याण होता है। जे के नाम से शुरू हो तो... बिकाऊ होता है। यहां बता दें, राज्यसभा सदस्य ज्योतिरादित्य सिंधिया के पिता स्वर्गीय माधवराव सिंधिया कांग्रेस नीति केंद्र सरकार में मंत्री रहे हैं। अब ज्योतिरादित्य सिंधिया भाजपा में हैं तो पूर्व नेता प्रतिपक्ष ने उनके नाम के पहले शब्द के अर्थ गोहद की सभा में गिनाए।

मायावती ने 10 लाख खा लिए, टिकट नहीं दियाः गोविंद सिंह

गोहद की सभा में लहार विधायक डॉ गोविंद सिंह ने बसपा नेता देवेंद्र सिंह पाठक को कांग्रेस में शामिल कराया। डॉ सिंह ने मंच से कहा, इन्होंने टिकट मांगा था। टिकट के लिए इनके एडवांस पैसे जमा करा लिए थे। मायावती ने इनके 10 लाख खा लिए। टिकट का टिकट नहीं दिया। डॉ सिंह ने कहा आज यह कांग्रेस में शामिल हो रहे हैं। जाटव हैं। पाठक लिखते हैं।

टाइगर भाजपा में लोमड़ी बना, अब कहते हैं कौवा हूं: केके मिश्रा

उपचुनाव की राजनीति में कौवे के प्रवेश के बाद अब कुत्ते का प्रवेश हो गया। गोहद की सभा में कांग्रेस प्रवक्ता केके मिश्रा ने अपने भाषण की शुरुआत शायरी से की। उन्होंने कहा 'क्या ताकत है बुजदिलों की, जो रोके दिलेर को', धोखे से काट लेते हैं कुत्ते भी शेर को।' मिश्रा ने कहा, मैं किसी को कुत्ते नहीं कहता हूं। अब आप लोग पहचान लीजिए भारत माता के इस लाल को जिसका सपना था विकास उसको किस तरह से राजनीतिक कुत्तों ने काटा है। उनसे बदला लेना है। सिंधिया के कौवे वाले बयान पर कटाक्ष करते हुए कहा, टाइगर भाजपा में लोमड़ी बन गया है। अब कहता है कि कौवा हूं। इस दौरान मिश्रा ने कौवे का किस्सा भी सुनाया।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020