भिंड(नईदुनिया प्रतिनिधि) शहर के हाउसिंग कॉलोनी स्थित बद्रीप्रसाद की बगिया में शनिवार को आदिनाथ दिगंबर जैन चैत्यालय जैन मंदिर में विराजमान गणाचार्य विराग सागर जी महाराज सहित 46 संतों की पिच्छिकाओं परिवर्तन समारोह आयोजित हुआ। कोरोना नियमों का पालन करते हुए 29वां आचार्य पदारोहण दिवस हर्षोल्लसास के साथ मनाया गया।

बतादें कि शनिवार की सुबह आदिनाथ दिगंबर जैन चैत्यालय मंदिर से गणाचार्य विराग सागर महाराज ससंघ सहित नगर का भ्रमण करते हुए बद्रीप्रसाद की बगिया पहुंचे। इसके बाद पिच्छियों के परिवर्तन की प्रक्रिया शुरू हुई। कार्यक्रम के दौरान गणाचार्य विराग सागर ने कहा कि आज काफी दिनों के बाद एक साथ भक्तजन उपस्थित हुए हैं। इन लोगों से मैंने पहले ही कह दिया था कोरोना को लेकर बनाए गए सभी नियमों का पालन करते हुए आप लोग कार्यक्रम में शामिल होना। आज हम 29वां आचार्य पदारोहण दिवस मना रहे हैं। वहीं श्री आचार्य ने कहा कि आचार्य पद उपहार ही नहीं व्यवस्था हैं इस पद को पाने के लिए बहुत कुछ प्रयत्न एवं प्रयास करते है। सत्य ये है कि शिष्य समुदाय काफी संख्या में होता हैं। मार्ग दर्शन व्यवस्था हो जाती है शासन वहीं होता है जो अनुशासन से चले जैन दर्शन में आत्मानुशासन का महत्व है कठोर अनुशासन में व्यक्ति पकते हैं आज हम इस अवसर पर आचार्य संतों का आकार प्रकट करते हैं कि उन्होंने हमारे उत्थान प्रगति के लिए बहुत अच्छी सोच रखी।

साधु बिना पिच्छिका के सात कदम आगे नहीं चल सकतेः आचार्य श्री ने कहा कि जैन मुनि साधु बिना पिच्छिका के सात कदम आगे नहीं चल सकते है उच्चारण सोच, श्रवण इत्यादि जो उनकी क्रिया होती में होती है। संत उठते-बैठते सोते-जागते समय पर भी वे पिच्छिकाओं को धारण करते है। जैन संप्रदाय और अन्य समाज में भी मयुर पंख का उयोग करते है जहां तक नारायण कृष्ण ने भी मयूर पंख धारण किया, मुस्लिम समुदाय में फकीर एवं विभिन्ना प्रकार के तंत्र मंत्र में इसका इस्तेमाल करते हैं।

संत वर्ष में एक बार बदलते है पिच्छीः अचार्य श्री ने कहा कि मयूर पंख इतना पवित्र और श्रेष्ठ है कि जंगल में जहां साधु संत तप तपस्या करते थे वहां मयूर अपने आप पंखों को छोड़ देते थे उन्हीं पंखों को उठाकर संतजन पिच्छि बनाकर उपयोग करते हैं। जिसे वर्ष में एक बार संतजन पिच्छी का परिवर्तन करते हैं। इस कार्यक्रम का शुभारंभ में मंगलाचरण दीप प्रजवलन के साथ आचार्य श्री का पाद प्रक्षालन विभिन्ना प्रान्तों से आये भक्तों के द्वारा पूजन एवं आचार्य पदारोहण दिवस एवं 46 पिच्छियों का परिवर्तन भक्ति भाव के साथ सम्पन्ना हुआ।

यह लोग कार्यक्रम में मौजूद रहेः

इस मौके पर संजीव सिंह कुशवाह विधायक, नरेन्द्र सिंह कुशवाह पूर्व विधायक, चौधरी राकेश सिंह पूर्व मंत्री, अशोक जैन, मुकेश जैन, मनोज जैन, रतन लाल जैन, महेन्द्र जैन, पंकज जैन, चक्रेश जैन, अशोक महामाया, दिनेश जैन, सुनील जैन शक्कर, आकाश जैन, शैलू जैन, केश जैन, पदम चन्द्र जैन, नीलेश जैन, मनीष जैन, नरेन्द्र जैन, राहुल जैन सहित अन्य लोग मौजूद रहे।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस