भिंड। चंबल नदी में लगातार उफान आने के बाद अटेर में भी आज करीब 40 मकान डूब में आ गए। यहां घरों में पानी भर गया। लोगों को अंदाजा नहीं था कि पानी गांव में घुस आएगा। दरअसल 1996 के बाद से गांव में कभी बाढ़ नहीं आई।

यही कारण है पुलिस प्रशासन पिछले 3 दिन से एनाउंस करता रहा, लेकिन डूब क्षेत्र में आने वाले घरों में लोग बाहर नहीं निकले। यहां गांव में करीब 1 मंजिल तक मकान डूब में आए हैं। सेना की मदद से बाढ़ से घिरे लोगों को रेस्क्यू कर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जा रहा है।

गौरतलब है कि मध्यप्रदेश के कई क्षेत्रों में तेज बारिश से हालात खराब हो गए। राज्य के कई प्रमुख बांधों के गेट खोलन पड़े। बारिश के कारण नदी-नाले उफान पर आ गए। ऐसे में रहवासी क्षेत्रों में पानी भर गया। चंबल नदी में उफान आने के बाद बड़े पैमाने पर गांवों में पानी जमा हो गया।

खेतों में पानी भर गया तो कई लोगों के मकानों में पानी आ जाने से घर में रखा सामान खराब हो गया। बाढ़ प्रभावित गांवों में रेस्क्यू चलाकर लोगों को सुरक्षित स्थानों तक पहुंचाया गया। हालांकि इसके बाद भी बड़े पैमाने पर गांव में लोग मौजूद हैं।