भिंड। नईदुनिया प्रतिनिधि

पिता की हत्या का बदला लेने जा रहे युवक को कोतवाली पुलिस ने दबोच लिया। युवक के पास से 315 बोर की अधिया और कारतूस मिला है। युवक ने पुलिस को बताया कि वर्ष 2002 में मंदिर में अखंड रामायण के विवाद में उसके पिता की गला रेतकर हत्या कर दी थी। पिता की हत्या के समय वह छोटा था। अब समझदार हुआ तो हत्यारे को मौत के घाट उतारने के लिए तैयारी कर ली थी। युवक ने पुलिस को बताया कि अधिया उसने अपने जीजा से 12 हजार में खरीदी है। आरोपित के जीजा कोतवाली में ही थे। पुलिस ने उन्हें पकड़ा नहीं, बल्कि बताया गया कि जीजा की सूचना पर ही आरोपित को दबोचा गया है। इसलिए फंसाने के लिए नाम ले रहा है।

यह है पूरी वारदातः

कोतवाली में पदस्थ एसआई हरजेंद्र सिंह चौहान को सूचना मिली कि गहेली हाल गांधी नगर गली नंबर-1 निवासी कमल 25 पुत्र जगराम कुशवाह अधिया लेकर किसी को गोली माने के लिए जा रहा है। सूचना पर एसआई ने पुलिसकर्मी जितेंद्र यादव, भूपेंद्र यादव और गौरव मिश्रा को साथ लेकर घेराबंदी की। गांधी नगर की गली नंबर-1 से पहले कमल को पुलिस ने दबोच लिया। आरोपित के पास से 315 बोर की अधिया और कारतूस मिला है। पुलिस को आरोपित ने बताया कि वर्ष 2002 में गांव के गोरेलाल कुशवाह, जमुना प्रसाद और रघुवीर पंडित ने मंदिर में अखंड रामायण के विवाद में गला रेतकर पिता की हत्या कर दी थी। कमल का कहना है कि पिता की हत्या के वक्त वह छोटा था। ऐसे में उसने पिता के हत्यारों को ठिाकने लगाने की पहले से ही ठान ली थी। जीजा रुस्तम कुशवाह निवासी स्वतंत्र नगर से 12 हजार रुपए में अधिया खरीद ली थी। कमल ने पुलिस को बताया कि शुक्रवार को उसे मालूम चला था कि पिता के हत्यारे आज भिंड आने वाले हैं। इसलिए वह उन्हें मारने के लिए घर से निकला था। पुलिस कमल को लेकर कोतवाली पहुंची तब जीजा रुस्तम सिंह भी वहीं थे। एसआई चौहान ने बताया कि जीजा को फंसाने के लिए कमल उनका नाम ले रहा है। कमल को पकड़वाने में जीजा ने पुलिस की मदद की है।

वर्जनः

आरोपित अधिया लेकर वारदात करने के लिए जा रहा था। मुखबिर की सूचना पर आरोपित को गिरफ्तार किया गया है। उसके पास से 315 बोर की अधिया और कारतूस को जब्त किया गया है।

हरजेंद्र सिंह चौहान, एसआई, शहर कोतवाली भिंड

फोटो नंबर 9,10 सहितः-