गोहद में पानी की कमी को देखते हुए कलेक्टर ने जारी किया आदेश

भिंड. गोहद।

गोहद अनुभाग में बेसली नदी से पंप के जरिए सिंचाई करने पर अगले साल जून 2010 तक प्रतिबंध लगाया गया है। कलेक्टर छोटे सिंह ने सोमवार को इस आशय का आदेश जारी किया है। कलेक्टर के आदेश का पालन नहीं करने वालों के खिलाफ जेल भिजवाने की कार्रवाई की जाएगी। दरअसल गोहद नगर में बेसली नदी से बंधे में एकत्रित किए पानी को सप्लाई किया जाता है। इस पानी को कुछ लोग पंप के जरिए सिंचाई में ले रहे हैं। इससे गोहद में पानी की कमी होने की आशंका है। इसी को देखते कलेक्टर ने यह आदेश जारी किया है।

गोहद एसडीएम ने भेजा था प्रस्तावः

गोहद एसडीएम आरए प्रजापति ने नवंबर माह में कलेक्टर छोटे सिंह को पत्र लिखबर बताया था कि गोहद में बेसली नदी में सीधे पंप लगाकर सिंचाई की जा रही है। ऐसे में आने वाले दिनों में गोहद में पानी का संकट गहरा सकता है। इसी को देखते हुए कलेक्टर छोटे सिंह ने सोमवार को निषेद्यागा लागू कर आदेश जारी किया है कि गोहद अनुभाग के अंतर्गत बेसली नदी या तालाब में सीधे पंप लगाकर सिंचाई नहीं की जा सकेगी। कलेक्टर ने इस पर जून 2020 तक के लिए प्रतिबंध लगाया है। कलेक्टर का कहना है कि आदेश की अवहेलना करने वालों के खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

बंधे में मार्च तक के लिए बचा पानीः

गोहद बंधे में अभी 508 फीट पानी स्टॉक में है। सिंचाई विभाग के एसडीओ नाथूराम बिंदल का कहना है कि यह पानी गोहद के लोगों की मार्च तक प्यास बुझा सकता है। हां, अगर नहरों से पानी और मिल जाए तो जो स्टॉक होगा, वह गोहद के लोगों को मई 2020 तक पानी सप्लाई करने के लिए पर्याप्त होगा। पिछले दिनों बंधे में पानी लेवल पर आने के बाद मोरी को बंद कर दिया गया था।

फोटो नंबर 20 सहितः-

Posted By: Nai Dunia News Network

fantasy cricket
fantasy cricket