अब्बास अहमद. भिंड।

चंबल की बेटियां बीहड़ी जिलों से निकलकर दुनिया में देश, प्रदेश और जिले का नाम रोशन कर रही हैं। भिंड की चार बेटियों ने वाटर स्पोटर्स में अपना लोहा मनवाया है। इससे शहर को गौरी सरोवर किनारे वर्ष 2018 में देश का पहला कैनोइंग-कयाकिंग सेंटर मिला। अब चार करोड़ 96 लाख रुपए की लागत से रोइंग सेंटर बनने जा रहा है। रोइंग सेंटर को बनाने के लिए खेल युवक कल्याण विभाग की ओर से लगातार कार्रवाईयां की जा रही हैं।

भिंड के सेंटर में देशभर के खिलाड़ियों का प्रशिक्षण

भिंड कयाकिंग-कैनोइंग सेंटर के संरक्षक राधेगोपाल यादव बताते हैं कि गौरी सरोवर में हुई नेशनल चैंपियनशिप के बाद भिंड का नाम देश के पटल पर वाटर स्पोटर्स में संभावनाओं के लिए तेजी से उभरकर सामने आया। इससे वर्ष 2018 में देश का पहला पैरा कैनोइंग कयाकिंग सेंटर की स्थापना भिंड में हुई। यहां उत्तरप्रदेश, उत्तराखंड सहित देशभर के पैरा खिला़िड़यों ने आकर प्रशिक्षण लिया। अब देश के कई और राज्यों में भी पैरा सेंटर खुल गए हैं। वहीं रोइंग के लिए केंद्रीय खेल एवं युवक कल्याण मंत्रालय ने खेलो इंडिया के तहत रोइंग सेंटर बनाने के लिए भिंड का चयन किया है। रोइंग सेंटर पर 4.96 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे।

पूजा ओझा

भिंड की पैरा कैनो खिलाड़ी पूजा ओझा देश की पहली कैनो खिलाड़ी हैं, जो भिंड जिले बीहड़ी क्षेत्र से निकलकर थाईलैंड और हंगरी में देश की ओर से खेली हैं। पैरा कैनोइंग में पूजा सिल्वर मेडल लेकर आईं थीं। अब भी पूजा लगातार प्रैक्टिस कर रही हैं।

अंजली शिवहरेः

वाटर स्पोटर्स में अब बीहड़ों के जिले भिंड से नया नाम अंजली शिवहरे का है। गौरी सरोवर किनारे कयाकिंग-कैनोइंग सेंटर से प्रेरणा लेकर अंजली ने वाटर स्पोटर्स में भविष्य चुनने का लक्ष्‌य बनाया। अंजली मध्यप्रदेश की टीम में पुणे और झारखंड में रोइंग में खेलने गईं।

साक्षी यादवः

कयाकिंग-कैनोइंग में भिंड शहर की निवासी साक्षी यादव भी जिले और प्रदेश का नाम रोशन कर रही हैं। साक्षी यादव भी मध्यप्रदेश की टीम से देश के कई प्रदेशों में वाटर स्पोटर्स खासकर कैनोइंग-कयाकिंग में भाग ले चुकी हैं। वाटर स्पोर्ट्स को उन्होंने भविष्य बनाया है।

श्रेया यादवः

वाटर स्पोटर्स में खतरे और रोमांच से भरपूर कैनो सलालम में भिंड शहर की श्रेया यादव का नाम तेजी से उभर रहा है। श्रेया यादव भोपाल अकादमी में रहकर और महेश्वर में रहकर इस विद्या में पारंगत हो रही हैं। कोरोना महामारी के कारण अभी घर आ गई हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local