Bhind News भिंड (नईदुनिया प्रतिनिधि)। दिल्ली पुलिस के आरक्षक से लूटी पिस्तौल का मामला आरोपितों की गिरफ्तारी के बाद उलझा नजर आ रहा है। आरोपित ने आरक्षक के तीन वीडियो जारी कर आरोप लगाए हैं कि वह नशे में लूट के इरादे से बस में चढ़ा था। तब यात्रियों ने उससे मारपीट कर पिस्तौल छीन ली थी। पिस्तौल बस संचालक के बेटे के पास थी। वे पिस्तौल स्थानीय पुलिस को सौंपते इससे पहले ही दिल्ली पुलिस ने बस संचालक और उसके बेटे को गिरफ्तार कर पिस्तौल बरामद कर ली।

कश्मीरी गेट थाने के आरक्षक सचिन सिंह की शिकायत पर भिंड के मछंड थाना क्षेत्र में शुक्रवार सुबह दिल्ली पुलिस ने दबिश दी और आरोपित अंकित उर्फ छोटू और पिता राजीव चौरसिया को गिरफ्तार कर लिया। दिल्ली पुलिस के अनुसार बुधवार रात चौरसिया की बस (यूपी 81-बीटी-1004) कश्मीरी गेट से उत्तर प्रदेश के माधौगढ़ जिला जालौन के लिए रवाना हुई।

बस को चेकिंग के लिए रोका गया। आरक्षक सचिन सिंह बस में चढ़ा ही था कि ड्राइवर ने बस दौड़ा दी। रास्ते में सचिन से मारपीट कर उसकी पिस्तौल लूटकर उसे उत्तर प्रदेश के फिरोजाबाद के पास छोड़ दिया। बस में चार लोगों ने घेरकर आरक्षक के वीडियो बनाए, जिसमें उससे कहलवाया कि वह बस लूटने के इरादे से आया था। बस संचालक ने यह बताई कहानी राजीव ने आरक्षक के वीडियो जारी कर आरोप लगाया कि उसने बुधवार रात बाइक अड़ाकर बस रोकी थी।

नशे में आरक्षक वारदात न कर दे, इसलिए सावधानी बरतते हुए पिस्टल रख ली थी। वीडियो में सचिन लूट के इरादे से बस में चढ़ने की बात कबूल रहा है। पहले बेटे फिर पिता को किया गिरफ्तार पुलिस ने शुक्रवार अलसुबह अंकित को गिरफ्तार किया और कुछ घंटे बाद ही राजीव चौरसिया को भी गिरफ्तार कर लिया। दोनों पर आरक्षक का अपहरण और पिस्टल लूटने का केस दर्ज किया है। वहीं मछंड पुलिस ने अंकित पर आर्म्स एक्ट का केस दर्ज किया है।

ऐसे मछंड तक आई दिल्ली पुलिस

राजीव की दिल्ली और माधौगढ़ के बीच आधा दर्जन बसें संचालित हैं। दिल्ली पुलिस ने बुकिंग एजेंट विनोद गुर्जर को हिरासत में लिया। इसके बाद चौरसिया की दूसरी बस (यूपी 83-एटी-9657) के ड्राइवर अजय वर्मा को पकड़ा। इससे सुराग मिला कि पिस्तौल मछंड में है।

दोनों के दावों पर उठ रहे सवाल - राजीव का कहना है कि पिस्तौल सवारियों ने छीनीं, एहतियात के तौर पर बेटा अंकित ले आया था। यहां सवाल है बुधवार रात के घटनाक्रम के बाद गुरुवार को पिस्तौल स्थानीय पुलिस को क्यों नहीं सौंपी। - दिल्ली पुलिस का दावा है आरक्षक से पिस्तौल लूटी गई है। धमकाकर वीडियो रिकॉर्ड किए गए। यहां सवाल है आरक्षक हाथ में पिस्तौल थी तो फिर उसे कैसे धमकाया गया। रात में ही बस की घेराबंदी क्यों नहीं की गई।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस