भिंड, नईदुनिया प्रतिनिधि। ऊमरी थाना क्षेत्र में वर्ष 2017 में जमीन पर कब्जे करने को लेकर आरोपितों ने युवक की लाठी-कुल्हाड़ी से पीटकर हत्या कर दी थी। मंगलवार को न्यायालय अपर सत्र न्यायाधीश मुन्नालाल राठौर ने दोष साबित होने पर चार आरोपितों को उम्रकैद की सजा सुनाई। सजा के साथ कोर्ट ने आरोपितों पर 6-6 हजार रुपए का जुर्माना भी किया है। एडीपीओ इंद्रेश प्रधान ने बताया कि इस केस को सनसनीखेज केस के तौर पर चिन्हित किया गया था। सजा सुनाए जाने के बाद आरोपितों को जेल भिजवाया गया है। एडीपीओ इंद्रेश प्रधान ने बताया कि पुलिस को फरियादी पवन कुमार शर्मा ने रिपोर्ट का बताया था कि उनकी गांव में खेती की जमीन गिरदावल सिंह यादव की जमीन से लगी हुई है। गिरदावल और उसके लड़के आए दिन अपने मवेशी फरियादी के खेत में छोड़ देते हैं। फरियादी ने पुलिस को बताया था कि पिता विश्वेशवर दयाल ने आरोपी के घर जाकर शिकायत की तो गिरदावल यादव ने धमकाते हुए कहा था कि गांव में अपनी जमीन छोड़कर भाग जा। नहीं तो अपने बेटों से तेरा मर्डर करा दूंगा।

पवन ने पुलिस को बताया कि गिरदावल की धमकी से डरकर पिता घर लौट आए थे। वारदात वाले दिन 12 जनवरी 2017 को सुबह करीब 9 बजे बहन वर्षा की शादी का सामान लेने पिता टेंट वाले के यहां जा रहे थे। खेत के पास आरोपित गिरदावल यादव, रवि, छोटे, रामशरण और करई देवी ने लाठी-कुल्हाड़ी लेकर जान से मारने के लिए हमला कर दिए थे। पिता के चीखने की आवाज पवन, बाबा नेतराम और चाचा प्रहलाद बचाने के लिए गए।

आरोपित पिता को पीट रहे थे। उन्हें इतना पीटा कि मरा हुआ मानकर भाग गए थे। पिटाई से विश्वेशवर दयाल शर्मा की मौत हो गई थी। पुलिस ने हत्या का केस दर्ज किया था। मंगलवार को दोष साबित होने पर कोर्ट ने आरोपित रामशरण पुत्र गिरदावल सिंह, छोटे सिंह पुत्र गिरदावल सिंह, रवि सिंह पुत्र गिरदावल सिंह और करई देवी पत्नी गिरदावल सिंह निवासी नेतराम सिंह का पुरा ऊमरी को उम्रकैद और 6-6 हजार रुपए जुर्माने की सजा सुनाई है।

Posted By: Nai Dunia News Network