- मेहगांव थाने के इमलिया गांव में हुआ हादसा, हादसे के बाद गांव में मातम पसरा

Bhind News: भिंड. मेहगांव.नईदुनिया प्रतिनिधि। चेक डैम किनारे मवेशी चराने गए दो चचेरे भाइयों की पानी में डूबने से मौत हो गई। दोनों भाई घर से 65 वर्षीय दादी के साथ निकले थे। दादी की आंखों के सामने ही दोनों चेक डैम में डूब गए। दादी ने आसपास मौजूद लोगों को मदद के लिए बुलाया। स्थानीय गोताखोर मदद के लिए चेक डैम में कूदे, लेकिन तब तक देर हो चुकी थी। पानी से दोनों बच्चों के शव ही बाहर निकले। हादसा मेहगांव थाना क्षेत्र के इमलिया गांव में गुरुवार सुबह करीब 10 बजे हुआ। पुलिस ने दोनों के शव पीएम के बाद स्वजन के सुपुर्द किए हैं।

मुस्तरी ग्राम पंचायत के इमलिया गांव निवासी मनोज जाटव का 12 वर्षीय बेटा अंकुश, मनोज के बड़े भाई मुकेश जाटव का 13 वर्षीय बेटा अभिषेक घर से सुबह 10 बजे 65 वर्षीय दादी शांतिबाई के साथ भैंस और बकरी चराने के लिए निकले थे। यह लोग मवेशी चराते हुए गांव के इमलिया-पिपरौली के सैर में वर्षभर पहले निर्मित कराए गए चेक डैम के पास पहंुच गए। यहां किसी तरह से मासूम अंकुश और अभिषेक डैम के पानी में चले गए। बारिश होने से चेक डैम में पानी ज्यादा है। इससे दोनों डूबने लगे। पूरा घटनाक्रम दादी शांति बाई की आंखों के सामने हुआ। अपने दोनों बच्चों को डूबते देखकर दादी मदद के लिए चिल्लाई। उन्होंने आसपास के लोगों को बुलाया। उनकी चीख सुनकर गांव के कमल सिंह और राजकुमार शर्मा ने डैम में छलांग लगाई। दोनों स्थानीय तैराकों ने बच्चों की खोज की। कुछ देर बाद डैम से दोनों बच्चों के एक-एक कर शव बाहर निकाले गए। हादसे की सूचना मिलने पर एसडीओपी राजेश राठौर, टीआइ मेहगांव दीनबंधु सिंह तोमर मौके पर पहुंच गए। दोनों मासूम बच्चों के शव पीएम के लिए मेहगांव अस्पताल के डेड हाउस भिजवाए गए। पीएम के बाद शव स्वजन के सुपुर्द कर दिए गए हैं। एक ही घर के दो बच्चों की मौत से पूरे गांव में मातम पसरा हुआ है।

दो बहनों में इकलौता भाई था अभिषेक:

अभिषेक के परिवार में पिता मुकेश जाटव, मां शगुना देवी और दो बहनें हैं। बड़ी बहन नीलम 15 वर्ष की है। छोटी बहन राेशनी आठ वर्ष की है। दो बहनों के बीच में अभिषेक इकलौता भाई था। अभिषेक की मौत से दोनों बहनों को मलाल है कि वे अब रक्षाबंधन पर किसे राखी बांधकर अपनी रक्षा का वचन लेंगी। पिता मुकेश जाटव और मां शगुना देवी का रो-रोकर बुरा हाल है। अंकुश चार भाई थे। सबसे बडा 15 वर्षीय विनय, दूसरे नंबर का अंकुश, तीसरा सात वर्षीय मनीष और चाैथा चार वर्षीय लवकुश है। अंकुश की मौत से मां मंजू देवी, पिता मनोज जाटव और दादी का रो-रोकर बुरा हाल है। दादी शांति देवी उस क्षण को कोस रही हैं, जब वे दोनों मासूम नाती के साथ मवेशी लेकर निकली थी।

Posted By: anil.tomar

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags