भिंड(नईदुनिया प्रतिनिधि)। न्यू बहुउद्देशीय स्वास्थ्य कर्मचारी संघ के पदाधिकारियों और कलेक्टर छोटे सिंह में बहस हो गई। दरअसल शुक्रवार को सीएमएचओ डॉ. अजीत मिश्रा ने जिला पंचायत सभागार में समीक्षा बैठक बुलाई थी। एएनएम, एमपीडब्ल्यू, सुपरवाइजर बैठक में जाने के बजाए जिला पंचायत परिसर में बहिष्कार कर धरने पर बैठ गए। इसी दौरान कलेक्टर पहुंचे। उन्हें कर्मचारियों के बहिष्कार की जानकारी दी गई। कलेक्टर ने कर्मचारी संघ के पदाधिकारियों को बातचीत के लिए बुलाया। इसी दौरान दोनों में बहस हो गई। स्थिति बिगड़ते देख शहर कोतवाली से पुलिस बुलानी पड़ी। बाद में सीएमएचओ कर्मचारियों को मनाकर बैठक में लेकर आए।

हमारी बहनें क्या कंप्यूटर ऑपरेटर हैं, टेबलेट पकड़ा दिए

न्यू बहुउद्देशीय स्वास्थ्य कर्मचारी संघ के कोषाध्यक्ष रामकुमार सोनी ने कहा, हमारी बहनें (एएनएम) कम पढ़ी हैं। उन्हें टेबलेट पकड़ा दिए हैं। कहा गया है कि इसमें एंट्री करो। क्या वे कंप्यूटर ऑपरेटर हैं। टेबलेट भी घटिया क्वालिटी के हैं। रात में 2-2 बजे तक बच्चों से एंट्री करवाती हैं। सुबह देखती हैं तो एंट्री निल मिलती है। रिकॉर्ड देने की कहते हैं तो कहते हैं ऑनलाइन एंट्री चाहिए। हमारी नहीं सुन रहे। अपनी कह रहे हैं। हमने जनवरी में ज्ञापन दिया तो कहते हैं 31 मार्च तक निराकरण करेंगे।

भिंड में पुरुष नसबंदी नहीं कराते, यह कहते कार्रवाई होगी

स्वास्थ्य कार्यकर्ता शिवकुमार लहारिया ने कहा परिवार नियोजन कार्यक्रम में प्रदेश में भिंड का 51वां नंबर आता है। जिले के लोगों में धारणाएं गलत हैं। कहते हैं नसबंदी के बाद परेशानी होती है। हाईड्रोशील की शिकायत हो जाती है। इससे भिंड में पुरुष नसबंदी नहीं करवाते हैं। अब यह लोग कहते हैं कि पुरुष नसबंदी नहीं होगी तो तुम लोगों पर कार्रवाई की जाएगी। हमारी तो कोई बात सुनी नहीं जा रही है।

सीएमएचओ कार्यालय के बाबुओं पर कोई कार्रवाई नहीं होती

कर्मचारी संघ जिलाध्यक्ष केएस बघेल ने कहा हम लोग निरंतर समस्याओं से जूझ रहे हैं। सीएमएचओ को ज्ञापन देकर शिकायत की, लेकिन कोई सुनवाई नहीं होती है। तरह-तरह की प्रताड़ना दी जा रही हैं। पांच बहनों को पिछले महीने बर्खास्त कर दिया। हालांकि उसे वापस ले लिया गया। कलेक्टर या सीएमएचओ ने क्या कभी संबंधित बाबू के खिलाफ कार्रवाई की है। प्रजातंत्र में सभी को सुनना पड़ता है। इस दौरान न्यू बहुउद्देशीय स्वास्थ्य कर्मचारी संघ के प्रांत अध्यक्ष रामकिशोर भदौरिया, रौन ब्लॉक अध्यक्ष गणेश भदौरिया, सुरेश दांतरे भी मौजूद रहे।

कलेक्टर बोले- अरेस्ट कराओ... अभी

- कलेक्टरः (धीमी आवाज में) आप लोग बैठक का बहिष्कार क्यों कर रहे हैं।

- कर्मचारीः (तेज आवाज में बोलते हुए) हमें सस्पेंड कर दो।

- कलेक्टरः (नाराज होते हुए) हां! करेंगे।

- कर्मचारीः (ज्यादा तेज आवाज में) बर्खास्त कर दो।

- कलेक्टरः (सीएमएचओ की ओर देखते हैं, नाराजगी में बोले) अरेस्ट कराओ... अभी।

- कर्मचारीः (एक-दूसरे को बाहर खींचते हुए) हां, कर देओ। चलो बाहर चलो।

- कलेक्टरः (मोबाइल उठाते हैं, सीएमएचओ से पूछा) कौन-कौन नेता हैं? लिस्ट दो मुझको।

- कर्मचारी- (गुस्से में बैठक कक्ष से बाहर जाते हुए) हां कर देओ। कर देओ। देखें कैसे करते हो?

- सीएमएचओः (कर्मचारियों से) अधिकारी ने अभी कुछ बोला ही नहीं है।

- कर्मचारीः नेता शब्द क्या होता है हमारे अध्यक्ष की बेइज्जती की है। कार्रवाई हो रही है।

- सीएमएचओः बहिष्कार किस लिए कर रहे हो क्या कोई कार्रवाई हुई।

- कर्मचारीः उन्होंने (कलेक्टर ने) अच्छे से बात ही नहीं की।

- सीएमएचओः मैं कह रहा हूं अंदर चलो, किसी पर कोई कार्रवाई नहीं होगी।

- कर्मचारीः आप कह रहे हो तो चलते हैं। (सभी कर्मचारी समीक्षा बैठक में पहुंच गए)।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस