भिंड। बसपा विधायक संजीव सिंह संजू के रिश्तेदार महेश तोमर की हत्या का सुराग लगाने के लिए देहात पुलिस पॉकलेन ऑपरेटर शिवधारी और हेल्पर सोनू से पूछताछ कर रही है। पुलिस ने दोनों को पूछताछ के लिए राउंडअप किया है। ऑपरेटर ने पुलिस को बताया है कि वारदात वाली रात वह पॉकलेन पर था। अचानक गोली चलने की आवाज सुनी। इसके तत्काल बाद चार नकाबपोश ने आकर गन प्वाइंट पर लिया और कहा गड्ढा कर शव को गाड़ दो।

ऑपरेटर ने पुलिस को बताया है कि आरोपित उसे 20-25 फीट गड्ढा कर शव गाड़ने के लिए कह रहे थे, लेकिन उसने सिर्फ शव के ऊपर मिट्टी डाली। ऑपरेटर और हेल्पर ने पुलिस को बताया वारदात से वे इतने डर गए थे कि रातभर खेतों में छिपे रहे। सुबह जाकर सूचना दी। इसके बाद डायल 100 को महेश तोमर की हत्या की सूचना दी गई।

यह है पूरी वारदात

देहरा गांव निवासी महेश सिंह तोमर 50 पुत्र भुलन सिंह तोमर की सोमवार-मंगलवार रात गांव के बाहर उनके ही खेत पर गोली मारकर हत्या कर दी गई। खेत में मिट्टी खोदने में लगी पोकलेन से तोमर के शव को मिट्टी में दबा दिया गया। पुलिस को छोटे बेटे दीपू तोमर ने बताया था कि सोमवार रात 10-11 बजे के बीच बाइक सवार दो लोग पिता को बुलाकर ले गए थे। रात में पिता नहीं आए। सुबह 5 बजे उससे फोन पर पूछा गया कि खेत पर झगड़ा हुआ है? इस फोन के बाद वह खेत पर पहुंचा तो वहां डायल 100 पहले से खड़ी थी।

डायल 100 के पास पॉकलेन ऑपरेटर शिवधारी और हेल्पर सोनू खड़ा था। यहां पॉकलेन के पास ही दीपू के पिता महेश तोमर को मिट्टी में दबाया गया था। शव का पीएम करने वाले डॉक्टर ने पुष्ट किया कि उन्हें पेट में गोली मारी गई है। सीने की दोनों ओर की 4-4 पसली टूटी हैं। जांघ और कूल्हे में फ्रैक्चर है। पूरे शरीर में चोटों के निशान हैं। देहात थाना पुलिस ने दीपू की रिपोर्ट पर मिट्टी खुदवा रहे ठेकेदार दिनेश कांकर सहित मुकेश कांकर, रिंकू कांकर, लालू कांकर, सुनील कांकर, जयप्रकाश कांकर, फोदल भदौरिया पर हत्या का केस दर्ज कर लिया था।

3 दिन पहले बेटे से हुआ गांव में विवाद

पुलिस की पड़ताल में यह बात सामने आई है कि मृतक महेश तोमर के मझले बेटे दीपू तोमर से वारदात से 3 दिन पहले गांव में विवाद हुआ है। पुलिस मानकर चल रही है कि इसी विवाद के चलते वारदात को अंजाम दिया गया है। वारदात में पुलिस परिजन से भी बात करेगी। यहां बता दें कि नईदुनिया ने पहले ही दिन बता दिया था कि महेश तोमर का मिट्टी खोदने के पैसों के लेनदेन को लेकर विवाद हुआ था। उसके बाद वारदात को अंजाम दिया गया। पुलिस की पड़ताल में भी यही बात सामने आ रही है।

परिजन ने दोबारा चक्का जाम किया, पंप बंद कराए

महेश तोमर की हत्या के आरोपितों की गिरफ्तारी की मांग कर परिजन ने बुधवार सुबह 8 बजे के करीब भिंड-अटेर नेशनल हाइवे-552 पर चक्काजाम कर दिया। जाम की सूचना मिलने पर सीएसपी दिनेश बैस, देहात थाना प्रभारी चंद्रभान सिंह चौहान और आसपास के थानों का बल पहुंच गया था।

परिजनों ने पुलिस से कहा कि आरोपित अपने फ्यूल पंप पर बैठकर दाल-टिक्कर के कार्यक्रम कर रहे हैं। परिजन की मांग पर पुलिस ने तत्काल आरोपित पक्ष के 2 पेट्रोल पंप को बंद करा दिया। यहां बता दें कि विरोध के चलते पुलिस दूसरे दिन भी वारदात स्थल से पॉकलेन को जब्त नहीं कर पाई है। इस पॉकलेन से भी महेश तोमर की हत्या के राज खुलेंगे।

इनका कहना है

पोकलेन ऑपरेटर और हेल्पर से पूछताछ की जा रही है। उन्होंने बताया है कि रात में गोली की आवाज सुनी। इसके बाद 4 नकाबपोश ने गन प्वाइंट पर लिया और कहा कि 20-25 फीट गहरा गड्ढा कर शव को गाड़ दो। दोनों से और पूछताछ की जा रही है।

रूडोल्फ अल्वारेस, एसपी, भिंड

Posted By: Nai Dunia News Network