भिंड(नईदुनिया प्रतिनिधि)। शहर की सड़कों पर बेसहारा मवेशियों का जमावड़ा बढ़ गया है। मवेशियों के स्वच्छंद विचरण से आवागमन बाधित होने के साथ राहगीरों को आने-जाने में भय बना रहता है। सुबह से लेकर रात तक बेसहारा मवेशी सड़कों पर खड़े रहते हैं। इन्हें सड़क से भगाने की कोशिश में ही दुर्घटनाएं घट जाती हैं। मुख्य मार्गों पर बेसहारा पशुओं का डेरा कभी न खत्म होने वाली समस्या बन गई है।

सड़कों पर शाम होते ही मवेशियों का डेरा रोड पर लग जाता है। बेसहारा मवेशी आमजन के लिए परेशानी का सबब बनते जा रहे हैं। हर गली, चौक-चौराहे पर पशु घूमते नजर आते हैं। कई बार ये हिंसक हो जाते हैं और आसपास से गुजरने वाले लोगों को चोट तक पहुंचा देते हैं। शहर के बस स्टैंड, जिला अस्पताल रोड, परेड चौराहा, गोल मार्केट सहित अन्य मुख्य मार्गों पर मवेशियों का जमावड़ा लग जाता है। मुख्य मार्ग होने के कारण इस मार्ग में हमेशा लोगों की आवाजाही बनी रहती है। ये बेसहारा पशु बीच सड़क पर खड़े रहते हैं। ऐसे में पहले से अतिक्रमण का शिकार शहर की सड़कें ब्लाक हो जाती हैं और जाम के हालात बन जाते हैं। शहर के अंदरुनी हिस्सों व बायपास सड़क पर ये बेसहारा पशु कूड़े के ढेर में मुंह मारते रहते हैं, जिससे सड़क पर कूड़ा बिखरा रहता है। लेकिन इसके बावजदू भी मवेशियों को पकड़े जाने को लेकर कोई अभियान नहीं चलाया जा रहा है।

पशु मालिक भी बेपरवाहः

शहर की सड़कों पर बेसहारा जानवरों का कब्जा होने के पीछे बहुत हद तक पशु मालिक भी जिम्मेदार हैं। मवेशियों से हित साधने के बाद इन्हें सड़कों पर बेसहारा घूमने के लिए इस तरह छोड़ दिया जाता है। दुर्घटना में मवेशियों की मौत के बाद वे मुआवजा के लिए दावा करते हैं। इसके साथ ही जिम्मेदार अधिकारी भी ध्यान नहीं दे रहे हैं। जबकि कुछ दिन पहले यातायात पुलिस द्वारा बेसहारा मवेशियों के सिंग पर रेडियम लगाए गए थे। लेकिन नगर पालिका के द्वारा अब तक बेसहारा मवेशियों को पकड़कर कांजी हाउस तक छोड़ने का अभियान शुरू नहीं किया गया है।

बारिश के चलते बढ़ रही संख्याः

बारिश के चलते इन दिनों खेतों में पानी भरा हुआ है। इस वजह से बेसहारा मवेशी सड़कों पर डेरा जमाए हुए हैं। शहर में मवेशियों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। लेकिन इन पर अंकुश लगाए जाने को लेकर कोई योजना अब तक तैयार नहीं की गई है। जिसका खामियाजा राहगीरों को भुगतना पड़ रहा है।

बिगड़ रही ट्रैफिक व्यवस्थाः

शहर के मुख्य मार्गों पर बेसहारा मवेशी खड़े होने की वजह से यातायात व्यवस्था दिनोंदिन लड़खड़ाती जा रही है। वहीं सड़कों पर बेसहारा मवेशी बैठे होने की वजह से यह आए दिन वाहनों की चपेट में आने से घायल भी हो रहे हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close