भिंड(नईदुनिया प्रतिनिधि)। सदर बाजार में इस महीने कोई तोड़फोड़ नहीं होगी। ग्वालियर हाईकोर्ट ने नपा और व्यापारियों के वकीलों की दलील सुनने के बाद छह जून तक समय दिया है। इस दौरान नपा और व्यापारियों के वकील अपना जवाब पेश करेंगे। यानी अब बाजार में छह जून के बाद ही अतिक्रमण विरोधी मुहिम पर हाईकोर्ट के आदेश के बाद ही निर्णय हो सकेगा। वहीं नपा और प्रशासन ने सदर बाजार के जिन पांच व्यापारियों का दोबारा सीमांकन किया है, उनके यहां अतिक्रमण नहीं पाया गया है। इससे भी नपा को कार्रवाई करने में कठिनाई आ सकती है।

नगरपालिका की ओर से सदर बाजार में सीमांकन के बाद 144 लोगों को नोटिस देकर अक्रिमण के निशान लगाए गए थे। इस पर कुछ व्यापारी ग्वालियर हाईकोर्ट गए। गुरुवार को ग्वालियर हाईकोर्ट में व्यापारियों के वकील ने नपा की कार्रवाई पर स्टे मांगा। इस पर नपा के वकील एके निरंकारी ने कहा कि नपा की ओर से अभी कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। वकील ने हाईकोर्ट से सात दिन का समय मांगा। हाईकोर्ट ने छह जून तक का समय दिया है। इससे परेड चौराहा से गोल मार्केट तक सदर बाजार में अब छह जून से पहले तक नगरपालिका की ओर से कोई भी अतिक्रमण विरोधी मुहिम नहीं चलाई जाएगी। छह जून की सुनवाई के बाद हाईकोर्ट से मिलने वाले आदेश पर अब नपा की ओर से कार्रवाई तय की जाएगी। इससे फिलहाल व्यापारियों को राहत मिल गई है।

इनके यहां नहीं पाया गया अतिक्रमणः

एसडीएम उदय सिंह सिकरवार, नपा सीएमओ सुरेंद्र शर्मा ने अपनी टीम के साथ दो मई 2022 को सदर बाजार में पांच व्यापारियों के यहां हाईकोर्ट के आदेश पर दोबारा सीमांकन करवाया। टीम ने व्यापारी भूपेंद्र जैन पुत्र लखपत जैन, जयप्रकाश जैन, बाबूराम जैन, महेंद्र जैन सिंघई मेडिकल स्टोर और प्रकाशचंद्र जैन के यहां नापजोख की। टीम ने घर-दुकान की छत पर जाकर और बाहर से सीमांकन किया है। इन व्यापारियों के यहां डिग्री के मुताबिक जगह पूरी पाई गई। यानी कोई अतिक्रमण नहीं पाया गया। यह सीमांकन रिपोर्ट भी हाईकोर्ट में पेश होगी। यहां बता दें, नपा ने 144 व्यापारियों, रहवासियों को नोटिस दिए थे। इनमें 67 लोगों ने नपा के दफ्तर में अपने दस्तावेज पेश कर दिए थे। यहां बता दें, सदर बाजार के कई व्यापारियों के पास फुटपाथ के बयनामे हैं। इसी आधार पर यह लोग हाईकोर्ट की शरण में गए हैं।

नपा की ओर से हाईकोर्ट में यह दलीलः

नपा के वकील एके निरंकारी ने हाईकोर्ट में दलील देते हुए कहा कि सदर बाजार की सड़क पहले काफी चौड़ी थी। अतिक्रमण से सड़क संकरी हो गई है। ऐसे में यदि कोई हादसा होता है तो स्वास्थ्य सेवाएं और फायर सुविधा पहुंचाने में परेशानी आएगी। इमरजेंसी की सेवाएं बाधित होंगीं। इसके साथ ही फुटपाथ पर कभी कोई परमिशन नहीं दी जा सकती है। नपा ने कुछ केसों में फुटपाथ पर परमिशन दी है, लेकिन वह फुटपाथ को कवर कर ग्राहकों के लिए छाया करने के लिए कहा गया था। इन व्यापारियों ने चार-चार मंजिल तक बिल्डिंग बना ली है। इसकी कोई परमिशन नहीं दी गई है। अब इस पर ग्वालियर हाईकोर्ट छह जून को कोई निर्णय दे सकता है।

वर्जनः

सदर बाजार में व्यापारियों के यहां दोबारा सीमांकन कराया गया थ। इसकी रिपोर्ट भेजी जा रही है। हाईकोर्ट में छह जून को सुनवाई है।

सुरेंद्र शर्मा, सीएमओ, नपा भिंड

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local