श्योपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

साहब! अंग्रेजी हमारी समझ से बाहर है। हमें ना तो अंग्रेजी आती है और ना ही हम अंग्रेजी में काम करेंगे। अगर हमसे काम कराना है तो हिंदी में कराइए। यह मांग आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने सोमवार को सीडीपीओ जितेंद्र तिवारी को केंद्र सरकार के पोषण ट्रैकर सिस्टम को जबरन अपलोड कराने से रोकने के लिए प्रधानमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपकर की है।

आंगनबाड़ी कार्यकर्ता यूनियन के बैनर तले सौंपे ज्ञापन में बताया गया है कि केंद्र सरकार द्वारा पोषण ट्रैक्टर सिस्टम एप लांच किया हैं, जिसे हर आंगनबाड़ी कार्यकर्ता को डाउनलोड कराया जा रहा है। हम उक्त एप को डाउनलोड करने के खिलाफ नहीं हैं, लेकिन केंद्र सरकार द्वारा उक्त एप को चलाने के लिए हर आंगनबाड़ी कार्यकर्ता को एंड्राइड मोबाइल और डेटा रिचार्ज के रुपए देने का जो वादा किया हैं, पहले वह वादा पूरा किया जाए। ज्ञापन में पोषण ट्रैकर एप डाउनलोड नहीं करने पर सुपरवाइजर आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं का वेतन काटने और दंडात्मक कार्रवाई करने की धमकी दे रहे हैं, जो ठीक नहीं है। बिना मोबाइल दिए और मोबाइल डाटा रिचार्ज दिए बिना आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं पर धमकी दी गई तो यूनियन आंदोलन करने को मजबूर होगी। कार्यकर्ताओं ने अंग्रेजी भाषा में एप के माध्यम से आंगनबाड़ी की सभी जानकारी भरने का भी विरोध किया है। कार्यकर्ताओं का कहना है कि मध्यप्रदेश हिंदी भाषी राज्य है और आंगनबाड़ी कार्यकर्ता कम पढ़ी लिखी हैं। जिन्हें अंग्रेजी का ज्ञान बहुत कम है। इसलिए पोषण ट्रैकर सिस्टम में अंग्रेजी के अलावा हिंदी में भी जानकारी भरने का सिस्टम लागू किया जाए। ज्ञापन देने वालों में यूनियन की जिलाध्यक्ष राजकुमारी राजपूत के अलावा विभिन्ना आंगनबाड़ी केंद्रों से पहुंची कार्यकर्ता शामिल थी।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local