भिंड, नईदुनिया प्रतिनिधि। भिंड जिला अस्पताल के मेडिकल वार्ड में मरीज से मिलने पहुंचे पूर्व फौजी ने ड्यूटी नर्स को चांटा मार दिया और मोबाइल तोड़ दिया। जवाब में नर्स ने पूर्व फौजी पर जूतियां बरसाईं। पूर्व फौजी ने नर्स को गला पकड़कर मारने की कोशिश की तो अस्पताल में भर्ती मरीजों के अटेंडर ने बीच-बचाव कराया। नर्स से मारपीट होते देखकर ड्यूटी पर तैनात सुरक्षाकर्मी मौके पर पहुंचे। अस्पताल चौकी के पुलिस जवानों ने पूर्व फौजी को पुलिस गाड़ी में बैठाकर शहर कोतवाली भेजा। साथ में नर्स रिपोर्ट दर्ज कराने गई। घटनाक्रम बुधवार रात करीब 11 बजे का है। कोतवाली में दोनों में सुलह हो गई। गुरुवार सुबह घटनाक्रम की जानकारी मिलने पर नर्सें हड़ताल पर चली गईं। सिविल सर्जन डा. अनिल गोयल नर्स को रिपोर्ट कराने थाने ले गए, लेकिन नर्स दोबारा बिना रिपोर्ट किए कोतवाली से वापस आ गई।

क्या था घटनाक्रमः बुधवार रात करीब 11 बजे नर्स आशा पांसे मेडिकल वार्ड में ड्यूटी पर थीं। इसी दौरान पांडरी निवासी पूर्व फौजी जितेंद्र सिंह परिचित मरीज से मिलने पहुंचे। मरीज दर्द से तड़प रहा था। जितेंद्र ने आशा से मरीज को दवा देने के लिए कहा। आशा ने ड्रिप लगाने की बात कही। जितेंद्र इस बात से संतुष्ट नहीं हुआ। उसने नर्स से कहा कि कुछ और दवा दो। बताया गया है कि जितेंद्र की बात को अनसुना कर नर्स मोबाइल चलाने लगी। इस बात पर जितेंद्र ने गुस्से में आकर नर्स में चांटा मार दिया। इससे नर्स का मोबाइल नीचे गिरकर टूट गया। गुस्से में आकर नर्स ने अपने जूती उतारकर जितेंद्र में मारना शुरू कीं। मौके पर मौजूद कुछ युवकों ने इस पूरे घटनाक्रम का वीडियो बनाया। जूतियां पड़ना शुरू हुईं तो जितेंद्र ने नर्स आशा का गला पकड़कर पीटना शुरू किया, लेकिन इस दौरान मरीजों के अटेंडर आ गए। वे जितेंद्र को एक ओर पकड़ ले गए। इस दौरान जितेंद्र के साथ के युवक आ गए। उन्होंने हाथ जोड़कर नर्स से माफी मांगी। नर्स से मारपीट की जानकारी मिलते ही सुरक्षा गार्ड मौके पर पहुंचे। सुरक्षा गार्ड ने पुलिस चौकी में जाकर शिकायत के लिए कहा। नर्स के साथ जितेंद्र भी पुलिस चौकी पहुंचा। यहां से पुलिस ने दोनों को गाड़ी में बैठाकर रिपोर्ट के लिए शहर कोतवाली भेज दिया। कोतवाली में नर्स और जितेंद्र में समझौता हो गया। नर्स बिना रिपोर्ट दर्ज कराए कोतवाली से वापस लौट गई।

सुबह स्टाफ ने काम बंद कर दियाः गुरुवार सुबह आशा पांसे के साथ हुए घटनाक्रम की जानकारी मिलने पर साथी स्टाफ नर्स और नर्सिंग स्टाफ आक्रोशित हो गया। इन्होंने अस्पताल में काम बंद कर हड़ताल पर जाने का ऐलान कर दिया। जानकारी मिलने पर सिविल सर्जन डा. अनिल गोयल मौके पर पहुंचे। उन्होंने बात की तो कहा गया कि नर्स की रिपोर्ट करवाओ। सिविल सर्जन अपने साथ नर्स पांसे को लेकर शहर कोतवाली पहुंचे। यहां पुलिस ने नर्स के बयान दर्ज करने की प्रक्रिया शुरू की तो नर्स बिना रिपोर्ट दर्ज कराए वापस चली गई।

वर्जनः

रात में नर्स ने समझौता कर लिया था। वह रिपोर्ट नहीं करना चाहती हैं। गुरुवार सुबह सिविल सर्जन अपने साथ नर्स को लेकर आए थे, लेकिन जब तक महिला पुलिसकर्मी को बयान दर्ज करने के लिए बुलाया गया तो नर्स दोबारा चली गई।

राजकुमार शर्मा, टीआइ, थाना शहर कोतवाली भिंड

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local