भिंड/मुरैना (नईदुनिया प्रतिनिधि)। मध्य प्रदेश माध्यमिक शिक्षा मंडल (माशिम) की परीक्षाओं में नकल के लिए बदनाम चंबल के भिंड और मुरैना जिले के विद्यार्थियों ने इस बार अलग ही उदाहरण प्रस्तुत कर दिया। कोरोना की वजह से बिना परीक्षा जारी हुए परिणाम को स्वीकार न करने में इन दोनों जिलों के विद्यार्थी आगे रहे। रिजल्ट से असंतुष्ट विद्यार्थियों के लिए विशेष परीक्षा सोमवार से शुरू हुई। पूरे प्रदेश से 14,500 विद्यार्थियों ने परीक्षा का विकल्प चुना है। इनमें से तीन हजार से ज्यादा केवल इन्हीं दो जिलों से हैं। हालांकि भिंड के एमएलबी परीक्षा केंद्र में 10वीं के एक छात्र को नकल करते हुए भी पकड़ा गया।

पुराने रिजल्ट के आधार पर या फिर अन्य किसी फार्मूले से तैयार परिणाम के बजाय पढ़ाई के मुताबिक नंबर हासिल कर मेरिट दिखाने की चाह ज्यादातर विद्यार्थियों में देखी गई। गौरतलब है कि कोरोना की वजह से परीक्षाएं आयोजित नहीं हुई थीं। माशिम ने 10वीं का रिजल्ट बेंचमार्क व 12वीं का परिणाम 10वीं के रिजल्ट के आधार पर घोषित किया था। असंतुष्ट विद्यार्थियों के लिए विशेष परीक्षा का विकल्प भी दिया गया था। भिंड में 10वीं-12वीं के 1177 विद्यार्थियों ने आवेदन किया है। पहले दिन 692 विद्यार्थियों में से 137 गैरहाजिर रहे। मुरैना में 10वीं की परीक्षा में 1868 और 12वीं की परीक्षा में 206 (कुल 2074) छात्रों ने परीक्षा का विकल्प चुना है।

भिंड के जिला शिक्षा अधिकारी हरभवन सिंह तोमर ने बताया कि सोमवार को 10वीं का गणित का पेपर था। 12वीं में इतिहास, कृषि, गणित, होम साइंस का पेपर था। 12वीं के पहले पेपर में 131 छात्रों में से 14 अनुपस्थित रहे।

पता चलेगा हमारी पढ़ाई का स्तर

मुरैना के 10वीं के छात्र सुशील कुमार राजपूत ने बताया कि वह जनरल प्रमोशन लेकर 11वीं मंे आसानी से चला जाता, लेकिन एक साल में उसने क्या मेहनत की, इसका पता कभी नहीं लगता। इस परीक्षा में शामिल होकर तैयारी का सही मूल्यांकन होगा। 12वीं के छात्र केशव हर्षाना ने बताया कि उन्हें विश्वास है कि जनरल प्रमोशन के परिणाम से ज्यादा नंबर आएंगे, इसीलिए परीक्षा में शामिल हो रहे हैं।

इनका कहना है

बिना परीक्षा बोर्ड ने पास तो कर दिया लेकिन नंबर देने का पैमाना पसंद नहीं आया था। मुझे सिर्फ 43 फीसद नंबर मिले, जबकि उम्मीद थी कि परीक्षा देता तो 70 फीसद से कम नंबर नहीं आते। मैं अच्छे नंबर के लिए परीक्षा दे रहा हूं।

- सुमन नरवरिया, परीक्षार्थी, 10वीं, भिंड

10वीं में मेरे नंबर बहुत अच्छे आए थे। 12वीं के लिए लाकडाउन में भी पढ़ाई की, लेकिन फार्मूले से मुझे 68 फीसद नंबर मिले। मुझे 85 फीसद से ज्यादा नंबर आने की उम्मीद है।

- उदित प्रताप सिंह, परीक्षार्थी, 12वीं, भिंड

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

NaiDunia Local
NaiDunia Local