भिंड।(नईदुनिया प्रतिनिधि) MP10th-12th board exam 10वीं और 12वीं बोर्ड परीक्षा में नकल माफिया के मंसूबे ध्वस्त करने के लिए क्यूआरएफ (क्विक रिएक्शन फोर्स) की 5 कंपनी बल मांगा गया है। प्रत्येक परीक्षा केंद्र पर त्रिस्तरीय जांच दल रहेगा। प्रत्येक छात्र की परीक्षा कक्ष में सीसीटीवी कैमरे से ऑनलाइन निगरानी होगी। जिले में पहली बार बोर्ड परीक्षा की ऑनलाइन निगरानी जनता भी देख पाएगी। कलेक्टर छोटे सिंह ने बताया ब्लॉक स्तर पर सीसीटीवी निगरानी केंद्र बना रहे हैं। यहां कोई भी जाकर देख सकेगा कि परीक्षा किस तरह से कराई जा रही है।

2 मार्च से शुरू हो रही बोर्ड परीक्षा में हाईस्कूल-हायर सेकंडरी के 47 हजार 681 छात्र शामिल होंगे। हाईस्कूल के 27 हजार 403 छात्र 62 परीक्षा केंद्रों पर परीक्षा देंगे। हायर सेकंडरी के 20 हजार 278 छात्र 60 परीक्षा केंद्रों पर परीक्षा देंगे। बोर्ड परीक्षा को नकल मुक्त कराने के लिए तत्कालीन कलेक्टर इलैया राजा टी, तत्कालीन एसपी नवनीत भसीन का पैटर्न अपनाया जाएगा। जिले में 32 परीक्षा केंद्र संवेदनशील, 19 केंद्र अति संवेदनशील चिन्हित किए गए हैं। यहां चुनाव की तर्ज पर सशस्त्र पुलिस बल तैनात किया जाएगा।

कलेक्टर छोटे सिंह ने बताया केंद्र पर प्रवेश से पहले छात्रों की त्रिस्तरीय जांच होगी। पहले दल में पंचायत, राजस्व, महिला बाल विकास, कृषि, लोक निर्माण विभाग, सिंचाई विभाग के अधिकारी-कर्मचारी जांच करेंगे। दूसरी जांच परीक्षा कक्ष में की जाएगी। तीसरी जांच केंद्र में तैनात अतिरिक्त पर्यवेक्षकों का दल करेगा।

16 कर्मचारी करेंगे ऑनलाइन निगरानी

संवेदनशील, अति संवेदनशील केंद्रों पर एक स्थायी प्रेक्षक नियुक्त किया जाएगा। सभी केंद्रों की सीसीटीवी कैमरों से ऑनलाइन मॉनीटरिंग होगी। जिला प्रोग्रामर हितेंद्र शर्मा को ऑनलाइन प्रभारी बनाया गया है। ऑनलाइन निगरानी के लिए अलग कंट्रोल रूम बनेगा। यहां 16 कर्मचारी ऑनलाइन निगरानी करेंगे। परीक्षा केंद्र पर स्थायी पैनल रहेगा, जिसे रोजाना रेंडम प्रक्रिया से तैनात किया जाएगा।

Posted By: Hemant Upadhyay