भिंड। नईदुनिया प्रतिनिधि

विधानसभा चुनाव की मतगणना 11 दिसंबर को है। चुनाव रिजल्ट का प्रत्याशियों को बेसब्री से इंतजार है तो अधिकारी भी मतगणना को लेकर पूरी तैयारी में हैं। मतगणना कैसे होगी, इसको लेकर शनिवार को सरकारी उन्कृष्ट क्रमांक 1 स्कूल में मॉक गणना की गई। इस दौरान मतगणना में शामिल रहने वाले सभी अधिकारियों और कर्मचारियों को बुलाया गया और ईवीएम से रिजल्ट निकालने से लेकर सीट भरने तक की जानकारी दी गई। इस दौरान कलेक्टर धनराजू एस, एसपी रूडोल्फ अल्वारेस सहित अन्य लोग उपस्थित थे।

ऐसे हुई मॉक गणना

मतगणना के लिए अधिकारियों और कर्मचारियों को प्रोफेसर रियाज अली ने ट्रेनिंग दी है। इस ट्रेनिंग का प्रैक्टिकल जानने के लिए शनिवार को सुबह 9 से 12 बजे तक मतगणना में शामिल होने वाले सभी अधिकारियों और कर्मचारियों को बुलाया गया। स्कूल में पांचों अटेर, भिंड, लहार, मेहगांव और भिंड विधानसभा के मतगणना हॉल में बकायदा टेबलें लगाईं गईं। इस दौरान रिहर्सल के लिए ईवीएम मंगाकर रिजल्ट निकाला गया और उसे सीट पर भरकर रिटर्निंग ऑफिसर के पास भेजा गया। आरओ से रिजल्ट सीट फाइनल होने के बाद टेबुलेशन के लिए भेजी गई।

2 घंटे सीखी मतगणना की बारीकी

मॉक गणना के दौरान अधिकारियों और कर्मचारियों ने मतगणना की हर बारीकी सीखी। रिहर्सल के दौरान यह भी बताया गया कि मतगणना हॉल में ईवीएम कौन लेकर आएगा और उससे रिजल्ट कैसे निकाला जाएगा। रिजल्ट निकालने के बाद ईवीएम को वापस कैसे भेजना है।

11 दिसंबर को ऐसे होगी मतगणना

विधानसभा चुनाव में उतरे प्रत्याशियों की किस्मत का फैसला 11 दिसंबर को मतगणना में होगा। मंगलवार को मतगणना के लिए हर विधानसभा के हॉल में 14 टेबलें लगाईं जाएंगी। प्रत्येक टेबल पर 1 मतगणना सुपरवाईजर, मतगणना सहायक और माइक्रो ऑब्जर्वर रहेगा। टेबल के सामने जाली की दूसरी और प्रत्याशियों के अभिकर्ता रहेंगे। सुबह 8 बजे से मतगणना के लिए राउंड वाइज ईवीएम मंगाना शुरू की जाएंगी। मतगणना अभिकर्ताओं के सामने ईवीएम की सीलिंग तोड़कर रिजल्ट दिखाया जाएगा।

ऑब्जर्वर चेक करेंगे ईवीएम

मतगणना के दौरान रिजल्ट बताने में कोई अधिकारी कर्मचारी गड़बड़ी नहीं कर पाएं, इसके लिए ऑब्जर्वर प्रत्येक राउंड में रेंडमली किन्हीं दो ईवीएम को चेक कर देखेंगे कि मतगणना के दौरान अधिकारियों और कर्मचारियों की ओर से बताया गया रिजल्ट सही है या नहीं।

ऐसे संकलित होगा रिजल्ट

मतगणना के दौरान प्रत्येक राउंड का रिजल्ट एकत्रित कर एआरओ अपने रिटर्निंग ऑफिसर के पास भेजेंगे। यहां से रिजल्ट फाइनल होने के बाद टेबुलेशन के लिए भेज दिया जाएगा। इस दौरान प्रत्याशियों के अभिकर्ताओं को भी रिजल्ट की जानकारी दी जाएगी।

आयोग को भेजेंगे जीत की जानकारी

जिले की हर विधानसभा सीट का फाइनल रिजल्ट आने के बाद रिटर्निंग ऑफिसर की ओर से चुनाव आयोग दिल्ली और भोपाल को सूचना दी जाएगी। चुनाव आयोग की परमिशन के बाद रिटर्निंग ऑफिसर चुनाव में विजयी होने वाले प्रत्याशी के नाम की घोषणा करेंगे और उसे जीत का प्रमाण-पत्र देंगे।

Posted By: