मिहोना। नगर के वार्ड क्रमांक 9 में एक सप्ताह से नाले-नालियां चोक होने के कारण गंदा पानी सड़कों पर बह रहा है,इससे लोगों को आने जाने में परेशानी हो रही है। दूसरी ओर जब भी सड़क से कोई वाहन निकलता है तो गंदा पानी आसपास खड़े लोगों के उपर उछलता है या फिर मकानों की दीवारों पर जा गिरता है। ऐसी स्थिति में आए दिन विवाद की स्थिति हो रही है। फिर भी इस समस्या की ओर न तो नगर परिषद और न ही स्थानीय जनप्रतिनिधि ध्यान दे रहे हैं।

नगर के वार्ड क्रमांक में 9 की सड़क पर इन दिनों घरों से निकलने वाला गंदा पानी भरा हुआ है। इसका मुख्य कारण नगर परिषद के द्वारा निकासी के लिए बनाए गए नाले-नालियों की लंबे समय से साफ-सफाई न कराना है। हालांकि इस संबंध में जिम्मेदार अफसरों को अवगत कराया जा चुका है, लेकिन एक सप्ताह बीत जाने के बाद भी न तो जिम्मेदार अफसरों ने यहां का निरीक्षण किया और न ही नाले-नालियों की सफाई शुरू कराई गई है। इस वजह से राहगीरों को हर रोज गंदे पानी के बीच से होकर आवागमन करना पड़ रहा है।

मच्छर बढ़ने से सोना मुश्किल

मच्छरों की तादाद बढ़ने से भी लोग रात भर चैन की नींद नहीं सो पाते। वार्डवासियों ने बताया कि पहले लोग गर्मी के मौसम में अपने छतों पर आराम से सोते रहते थे, लेकिन अब मच्छरों के कारण छतों पर सोना ही बंद कर दिया है। नगर परिषद द्वारा नालियों की समय पर सफाई न करने के कारण महीनों से मलबा फसा हुआ है। जिसके कारण लोगों के घरों से निकलने वाला गंदा पानी नालियों से ओवर फ्लो होकर बह रहा है। जिसके चलते स्थानीय लोग स्वयं ही नालियां साफ करते हैं, लेकिन नालियों में इतना अधिक मलवा भरा है कि वह सही तरीके से साफ नहीं हो पाती, जिससे एक-दो दिन में फिर से पानी सड़क पर बहने लगता है।

यह नाले गंदगी से भरे पड़े हैं

मंडी गेट हनुमान गढ़ी मंदिर के पास, कन्याशाला स्कूल वाली गली, कृष्णा डाक्टर वाली पुलिया भिंड रोड सहित अन्य जगहों नाले गंदगी से भरे पड़े हैं। जिनकी सफाई कराने को लेकर नगर परिषद के अधिकारी ध्यान नहीं दे रहे हैं। इस वजह से नगर की निकासी व्यवस्था धीरे-धीरे ध्वस्त होती जा रही है। ऐसे में अगर बारिश हुई तो समस्याएं ओर भी बढ़ जाएंगीं।

वर्जन

-वार्ड 9 की सड़क नगर के ऐतिहासिक तालाब और प्राचीन मंदिर को जोड़ती है। ऐसे में तालाब की ओर आनेजाने वाले राहगीरों के गंदे पानी के बीच होकर निकलना पड़ रहा है।

शिवहरि शर्मा, स्थानीय निवासी

-वार्ड का निरीक्षण करने के लिए पहुंचे नगर परिषद के अधिकारी जल्द ही इस समस्या का समाधान कराने का आश्वासन देकर चले गए थे, जिसके बाद से आज तक निकासी की व्यवस्था बनाने को लेकर प्रयास नहीं किए गए।

मनोज शर्मा, स्थानीय निवासी

-वार्ड में जलभराव की समस्या को लेकर नगर परिषद सीएमओ एवं हेल्पलाइन पर भी शिकायत की गई है, लेकिन के बाद भी अब तक कोई सुनवाई नहीं हुई।

गिरीश शर्मा, पूर्व पार्षद

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags