भिंड। नईदुनिया प्रतिनिधि

शहर सहित अंचल में सावन के आखिरी यानी चौथे सोमवार को शहर के वनखंडेश्वर मंदिर सहित अंचल के शिव मंदिरों पर हर-हर भोले के जयकारे की गूंज सुनाई दी। शिवभक्तों ने भगवान शंकर को विल्पपत्र के साथ विशेष पूजा-अर्चना कर रुद्राभिषेक किया। वनखंडेश्वर मंदिर पर सुबह 4 बजे से श्रद्घालुओं का आना शुरू हो गया था। इधर मंदिरों में सुरक्षा के लिए एएसपी कमलेश खरफुसे ने जवानों को तैनात किया। शहर में सीएसपी,टीआइ जितेंद्र मावई, ट्रैफिक सूबेदार नीरज शर्मा ने लगातार निरीक्षण किया।

शिवजी को विल्वपत्र चढ़ाने आती है संपन्नाता -

पंडित कुलदीप शास्त्री के मुताबिक सावन के महीने में पड़ने वाले सोमवार का विशेष महत्व है। सावन के सोमवार को भगवान भोलेनाथ की आराधना, व्रत, जप, तप और पूजा-अर्चना करने से घर में सुख-समृद्घि आती है। सोमवार को शिवालय में जाकर शिवजी को विल्वपत्र अर्पित करने वाले व्यक्ति को मौक्ष प्राप्त होता है। इस दिन व्रत रखना लाभकर होता है।

सुबह 4 बजे से मंदिरों में रही भीड़ -

सावन के आखिरी सोमवार को शहर के वनखंडेश्वर मंदिर पर श्रद्घालुओं का आना सुबह 4 बजे से हो गया था। महिलाओं के साथ युवतियों और लड़कों ने भगवान शिव का जलाभिषेक कर विल्पपत्र, धतूरे सहित अन्य सामग्री चढ़ाई। वनखंडेश्वर मंदिर पर सुबह से देर रात तक भक्तों का आना-जाना लगा रहा। मंदिर प्रबंधन की मानें तो सोमवार को करीब 50 हजार भक्तों ने भगवान शिव के दर्शन कर पूजा-अर्चना की।

यहां भी पहुंचे श्रद्घालु -

शहर में श्रद्घालु वनखंडेश्वर मंदिर के इटावा रोड स्थित कुंडेश्वर महादेव मंदिर, छोलेश्वर महादेव, 17वीं बटालियन मंदिर पर सुबह से ही लोगों का आना-जाना लगा रहा। इसके अलावा फूफ के बोरेश्वर महादेव मंदिर, मेहगांव में वनखंडेश्वर महादेव मंदिर और रावतपुरा धाम मंदिर पर बड़ी संख्या में श्रद्घालु पहुंचे।

भक्तों ने अर्धनारीश्वर मंदिर पर फल, टाफी व बिस्किट से श्रृंगार किया -

शहर के प्राचीन अर्धनारीश्वर मंदिर पर सावन के अंतिम सोमवार पर भक्तों ने बाबा का टाफी, बिस्किट व फल-फूल से अलौकिक श्रृंगार किया। मंदिर सेवा समिति से जुड़े प्रशांत त्रिपाठी के मुताबिक सिर्फ भिंड और नेपाल में स्थित है। सोमवार को भोले करने वालों में कौशल पाराशर, ऋतिक पंडित ,आयुष सक्सेना, मोहित प्रोहित ,अनिकेत भदौरिया,गोपाल और मयंक ओझा आदि उपस्थित रहे

मंदिरों पर भजन-कीर्तन हुए -

सोमवार को मंदिरों में भजन कीर्तन हुए। इसके अलावा कई जगह मिट्टी के शिवलिंग बनाए गए। मान्यता है कि सावन के सोमवार को पार्थिव शिवलिंग बनने से विशेष फल मिलता है। इसके अलावा मंदिरों पर रोशनी की भी व्यवस्था की गई।

शिवालयों पर तैनात रही पुलिस -

शहर में प्राचीन वनखंडेश्वर महादेव मंदिर के अलावा कालेश्वर मंदिर, अर्द्घनारीश्वर मंदिर सहित अन्य मंदिरों पर सुरक्षा के लिए पुलिस का विशेष इंतजाम रहा। वहीं प्रशासन ने सोमवार को वनखंडेश्वर मंदिर को एकांकी घोषित कर दिया था, जिससे लोगों को जाम की समस्या से परेशान नहीं होना पड़े। वहीं शिवालयों पर सुरक्षा व्यवस्था के लिए पुलिस तैनात रही। एएसपी श्री खरफुसे के मुताबिक मंदिरों पर आने वाले श्रद्घालुओं को किसी भी तरह की परेशानी नहीं हो इसके लिए शहर में सिटी कोतवाली, देहात के अलावा अन्य जगह का फोर्स सुरक्षा की दृष्टि से तैनात किया गया है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close