अब्बास अहमद, भिंड नईदुनिया। एसपी साहब! मैं तो न्यायालय में अपने वकील के पास से एएसपी साहब से मिलने के लिए आपके ही कार्यालय में था। मुझे आपके कार्यालय में ही फोन पर बताया गया कि अनूप गोस्वामी के पैर में गोली लगी है, जो षड्यंत्र है। अटेर थाना पुलिस ने मुझे और मेरे परिवार को इसमें आरोपित बना दिया। यह बात बोरेश्वर धाम में अंतरिम पुजारी सतीश गोस्वामी ने एसपी शैलेंद्र सिंह चौहान से कही। एसपी ने मामले में जांच कर कार्रवाई करने का आश्वासन दिया है। एसपी को बताया गया कि पूरा मामला बोरेश्वर धाम मंदिर में पुजारी की नियुक्ति से जुड़ा है।

बुधवार को ग्रामीणों के साथ बोरेश्वर धाम मंदिर के अंतरिम पुजारी सतीश गोस्वामी पुत्र रमाकांत गोस्वामी ने एसपी चौहान को बताया कि 10 जनवरी को वह न्यायालय में अपने वकील के पास थे। वकील के पास से एएसपी के कार्यालय में गया था। पुजारी सतीश गोस्वामी ने एसपी को दिए आवेदन में बताया है कि वे एएसपी कार्यालय में थे तो उसी समय मोबाइल पर श्यामबाबू पुत्र बद्रीप्रसाद ने काल कर बताया कि अनूप गोस्वामी ने गांव के बाहर अपने चचेरे भाई अभिषेक के साथ आ रहे थे। अनूप के पैर में गोली लगी है। बताया गया कि यह षड्यंत्र हो सकता है। देर शाम अटेर थाना पुलिस ने अनूप की शिकायत पर षड्यंत्र पूर्वक फंसाने के लिए हत्या के प्रयास का झूठा केस दर्ज कर दिया। सतीश गोस्वामी ने एसपी से कहा कि उसे और परिवार के लोगों को फंसाया गया है। उन्होंने बताया कि एएसपी कार्यालय में जिस समय उनके पास अनूप को गोली लगने की सूचना मिली, उनके पास फूफ थाना प्रभारी भी खड़े हुए थे। सतीश गोस्वामी ने एसपी से मांग की है कि उन्हें और परिवार के सदस्यों को हत्या के प्रयास के केस में झूठा फंसाने वालों पर जांच कर कार्रवाई की जाए।

पुजारी की नियुक्ति का विवाद: सतीश गोस्वामी ने एसपी को बताया कि एसडीएम के आदेश 24 अक्टूबर 2019 से बोरेश्वर धाम मंदिर में पुजारी नियुक्त हुए। बाद में अटेर एसडीएम ने अनूप गोस्वामी को पुजारी नियुक्त करने का आदेश कर दिया था। इस आदेश के खिलाफ सतीश गोस्वामी ने चंबल कमिश्नर के न्यायालय में अपील की। कमिश्नरी से इस मामले को अटेर के बजाए मेहगांव एसडीएम के न्यायालय मे कार्रवाई के लिए भेज दिया गया है। साथ ही मंदिर में सेवा, पूजा-अर्चना के लिए सतीश गोस्वामी को अंतरिम रूप से पुजारी नियुक्त कर दिया है। सतीश गोस्वामी ने एसपी को बताया कि उन्हें पूर्व में मंदिर से घंटे चोरी करने के केस में फंसाने की कोशिश की गई थी। इस मामले में भी उन्होंने अनूप गोस्वामी के खिलाफ शिकायत की थी, जिसमें अटेर एसडीओपी ने जांच की है।

Posted By: vikash.pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local