भिंड (नईदुनिया प्रतिनिधि)। शहर के गौरी सरोवर में जेटी पकड़कर नौकायन का अभ्यास कर रही किशोरी की लाइफ जैकेट अचानक खुल गई। सरोवर में डूबने से किशोरी की मौत हो गई। करीब ढाई घंटे बाद शव जेटी के पास से मिला। घटना शुक्रवार सुबह की है। आक्रोशित स्वजनों व स्थानीय लोगों ने सड़क पर शव रखकर जाम लगा दिया। कोच हितेंद्र तोमर, ताइक्वांडो कोच जावेद खान पर गैर इरादतन हत्या का केस दर्ज किया गया है।

भिंड के गणेश कॉलोनी बरुआ नगर निवासी 16 वर्षीय श्रुति पुत्री विनोदसिंह भदौरिया कयाकिंग-कैनोइंग सेंटर पर आकर लाइफ जैकेट के साथ सरोवर में जेटी पर पहुंची। शुक्रवार सुबह करीब 9.30 बजे कई बालिकाएं जेटी पकड़कर नौकायन का अभ्यास कर रही थीं।

इस दौरान श्रुति की लाइफ जैकेट खुल गई। जैकेट खुलते ही श्रुति तेजी से जेटी के नीचे की ओर चली गई। मौके पर मौजूद ताइक्वांडो कोच जावेद खान तुरंत ही सरोवर में कूदे, लेकिन श्रुति उन्हें नजर नहीं आई। स्थानीय गोताखोरों की कोशिश भी बेकार साबित हुई। इसके बाद होमगार्ड की मोटर बोट मंगवाई गई। कांटा डालकर श्रुति को तलाश किया गया। करीब ढाई घंटे की मशक्कत के बाद जेटी के नीचे से श्रुति का शव मिला। बता दें कि सरोवर किनारे कयाकिंग-कैनोइंग सेंटर से प्रशिक्षण लेने के लिए श्रुति ने करीब 20 दिन पहले ही आना शुरू किया था।

घटिया क्वालिटी की लाइफ जैकेट, सीएसपी बोले इससे तो डूब ही जाएंगे

श्रुति नहीं मिली तो सीएसपी आनंद राय ने सरोवर में जाने के लिए लाइफ जैकेट मंगवाई। सेंटर से जो लाइफ जैकेट आई वो बेहद हल्की थी। सीएसपी ने कहा- इस लाइफ जैकेट को पहनकर गया तो डूब ही जाऊंगा।

जिन्हें तैरना नहीं आता, उन्हें भी सिखा रहे नौकायन, लापरवाही पर मुकदमा दर्ज

घटना को लेकर बड़ी लापरवाही सामने आई है कि सेंटर पर ऐसे बच्चों को भी नौकायन सिखाई जा रही थी, जिन्हें तैरना ही नहीं आता। श्रुति भदौरिया को भी तैरना नहीं आता था। उसके बाद भी उसे सेंटर से नौकायन सिखाने के लिए हां कर दिया गया। शुक्रवार को सेंटर के कोच हितेंद्र सिंह तोमर मौजूद नहीं थे। बच्चों की छुट्टी करने के बजाय उन्हें बुलाकर नौकायन का प्रशिक्षण दिया जा रहा था। लापरवाही को लेकर स्वजनों ने चक्काजाम कर दिया। एसपी की समझाइश के बाद स्वजन हटे। पुलिस ने कोच हितेंद्र तोमर, ताइक्वांडो कोच जावेद खान पर गैर इरादतन हत्या का केस दर्ज कर लिया है।

जेटी का आशय

पानी की सतह पर तैरता हुआ प्लेटफॉर्म है। सरोवर में नौकायन सिखाने से पहले किशोरी को जेटी के सहारे सरोवर में लाइफ जैकेट के साथ उतारा गया था। एक हाथ से जेटी को पकड़ते हैं और दूसरे हाथ से पानी को पीछे धकेला जाता है। इसी दौरान लाइफ जैकेट खुली। गौरी सरोवर में यह क्रॉस आकार में लगभग 15 फीट लंबी और चार फीट चौड़ी थी।

Posted By: vikash.pandey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस