कायाकल्प की टीम ने मौ अस्पताल का किया निरीक्षण

भिंड(नईदुनिया प्रतिनिधि)। मौ अस्पताल का निरीक्षण करने के लिए मंगलवार को कायाकल्प की टीम पहुंची। टीम के सदस्यों ने प्राथमिक सामुदायिक अस्पताल का निरीक्षण किया। हालत बद्दतर नजर आए। सर्वे टीम के सदस्यों को डिलेवरी रूम में पलंग पर बिछे गद्दे फटे हुए थे जिन पर अस्पताल प्रबंधन ने चादर बिछाकर ढक रखा था। यह देख कर कायाकल्प सर्वे टीम के सदस्य नाराज नजर आए। जब उन्होंने इसको लेकर अस्पताल प्रबंधन के अधिकारियों से बात की तो वह एक-दूसरे पर पल्ला झाड़ने लगे।

मौ अस्पताल का निरीक्षण करने के लिए सर्वे दल में सदस्य प्रशांत नायक समेत चार लोग भोपाल से आए थे। बीएमओ अमृत राजे से सवाल जवाब करना शुरू किया। इसके बाद टीम के सदस्यों ने डिलेवरी रूम को देखा। यहां दो डिलेवरी रूम थे, जहां प्रसूताओं को लिटाया जाता है। एक में ठीक ठाक व्यवस्था थी, दूसरे डिलेवरी रूम में बेड पर फटे गद्दे को चादर से ढक रख था। यह देखकर सर्वे दल के सदस्यों ने कहा कि इस हालात में प्रसूता को इंफेक्शन फैलने की आशंका रहेगी। यह सुनकर बीएमओ राजे ने कहा- अधिकांश लोग, ग्वालियर ही डिलेवरी कराते हैं। इस कमरे का कम ही उपयोग होता है। इसके बाद टीम के सदस्यों ने नर्सिंग स्टाफ से बातचीत की। यहां मौजूद नर्सिंग स्टाफ से डिलेवरी के दौरान किन-किन सावधानियों की जरूरत होती है। इस पर वे कोई खास नहीं बता पाईं। वहीं सर्वे दल के सदस्यों ने जब अस्पताल में मरीजों व प्रसूताओं को दिए जाने वाली भोजन व्यवस्था की जानकारी ली। जब किचन को देखा तो खाली मिला। यह देखकर सर्वे दल के सदस्यों ने सवाल किया और बोले सामान कहां है। इस पर डाक्टर राजे ने कहा कि भोजन बनाने वाला ठेकेदार अपना सामान स्वयं लाता है और अपने साथ ही लेकर चला जाता है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local