- पांच दिन पहले आईजी ने कहा था- बड़ी मूर्तियों को बड़े घाट पर विसर्जन करें

भोपाल। नवदुनिया प्रतिनिधि

त्योहार की तैयारियों को लेकर पिछले एक माह से लगातार पुलिस कंट्रोल रूम में बैठकों का दौर चल रहा था। पुलिस विभाग तमाम निर्देश जारी तो कर रहा था, लेकिन मैदानी अफसर उसका पालन नहीं कर रहे थे। शुक्रवार सुबह खटलापुरा पर जिन लोगों की ड्यूटी लगी थी, उसमें से करीब आधे लोग मौके से गायब हो गए थे। खटलापुरा पर पुलिस के तैनात 52 अफसरों में 25 गुपचुप तरीके से कन्नी काटकर गायब हो गए थे। इनमें से एक महिला टीआई और डीएसपी भी शामिल थे। इसी लापरवाही के कारण 15 फीट की गणेश मूर्ति खटलापुरा घाट के अंदर चली गई और किसी ने रोका तक नहीं था, जबकि पांच दिन पहले ही आईजी ने ऐसे मूर्तियों को ब़ड़े घाट पर ले जाने के निर्देश दिए थे। बता दें कि गणेश मूर्ति के विसर्जन को लेकर 29 स्थानों पर इंतजाम किए गए थे। इसमें सभी घाटों पर करीब 17 सौ के करीब पुलिस कर्मियों को तैनात किया गया था। इनमें से खटलापुरा पर 52 पुलिस कर्मियों को लगाया गया था।

दोषी पुलिसकर्मियों को नहीं बख्शेंगे

इस पूरे घटनाक्रम में जिस भी पुलिस कर्मी की लापरवाही हुई है, उसे बख्शा नहीं जाएगा। खटलापुरा से ड्यूटी से गायब पुलिस कर्मियों पर कार्रवाई की जाएगी। इस पूरे घटनाक्रम पर डीआईजी से विस्तृत रिपोर्ट मांगी है। मेरे द्वारा 7 सितंबर को निर्देश दिए थे। इसका पालन नहीं किया गया है।

योगेश देशमुख, आईजी