पुष्पेंद्र अहिरवार, भोपाल। नवदुनिया। हज यात्रा 2020 के मुकम्मल सफर के लिए सेंट्रल हज कमेटी ऑफ इंडिया ने मप्र के यात्रियों से इंबार्केशन पॉइंट के लिए विकल्प मांगा है। यात्रा पर जाने के लिए जिन्होंने भोपाल इंबार्केशन पॉइंट से जाने की उम्मीद पाल रखी थी, उनको पॉइंट के विकल्प से निराश हाथ लगी है। मुंबई की अपेक्षा भोपाल पॉइंट से सीधी उड़ान भरने वालों के लिए 32 हजार रुपये ज्यादा जमा करना पड़ रहा है।

दरअसल, प्रतिवर्ष राजधानी भोपाल समेत प्रदेश के अन्य जिलों से यात्री हज करने जाते हैं। इस वर्ष 13 हजार लोगों ने आवेदन किया, सबसे ज्यादा संख्या भोपाल के यात्रियों की है। आवेदन करते समय सभी यात्रियों ने सोचा कि भोपाल इंबार्केशन पॉइंट से अपनों का दीदार करते हुए उड़ान भरेंगे, लेकिन इस उम्मीद पर हवाई सेवा कराने वाली कंपनी ने पानी फेर दिया।

भोपाल पॉइंट से सीधी उड़ान भरने वालों को मुंबई की अपेक्षा 32 हजार 60 रुपये ज्यादा भरना पड़ रहा है। यही वजह है कि मुंबई पहले से ही भोपाल के यात्रियों की पसंद बना था, लेकिन भोपाल से फीस महंगी होने की वजह से इस वर्ष भी भोपाल के ज्यादातर यात्री मुंबई पॉइंट को प्राथमिकता दे रहे हैं।

4864 करेंगे यात्रा

सेंट्रल हज कमेटी ऑफ इंडिया ने मप्र के लिए 4864 यात्रियों का कोटा आवंटन किया है। इसमें करीब दो हजार लोगों ने भोपाल इंबार्केशन पॉइंट को स्थान चुना है। शेष लोगों ने मुंबई से जाने का विकल्प भर रहे हैं। यह कोटा बढ़ भी सकता है। राज्य हज कमेटी ने कोटा बढ़ाने के लिए सेंट्रल हज कमेटी में अपनी अर्जी लगा रखी है।

हज कमेटी ने नहीं समझा भोपाल के लोगों का दर्द

वर्ष 2019 में मुंबई की अपेक्षा भोपाल से यात्रा करने वालों को 12 हजार रुपये ज्यादा भरने पड़े थे, लेकिन इस वर्ष यही दरें ज्यादा खुलीं। 32 हजार रुपये ज्यादा जमा करने होंगे। जबकि वर्ष 2018 में भोपाल पॉइंट से यात्रा करने के लिए 35 हजार रुपये जमा कराए गए थे। इस प्रकार भोपाल से प्रतियात्री ने 2 लाख 90 हजार और मुंबई से 2 लाख 78 हजार में यात्रा पूरी कर ली थी। इस वर्ष कितना खर्च आएगा, यह अभी तय नहीं हुआ है। इस बड़ी हुई दरों की जानकारी सेंट्रल हज कमेटी ऑफ इंडिया को भी है, लेकिन उसने भी भोपाल के लोगों का दर्द नहीं समझा।

25 तक पहली किश्त होगी जमा

राज्य हज कमेटी के सचिव दाऊद अहमद खान के मुताबिक हज यात्रा 2020 के लिए पहली किश्त 81 हजार रुपये 25 फरवरी तक जमा करने हैं। पहली किश्त के लिए दो बार तिथि बढ़ाई जा चुकी है। दूसरी किश्त एक लाख 20 हजार रुपये जमा करना है। इसके बाद यात्रा का खर्च तय होगा। शेष राशि फीस तय होने के बाद भरना होगी। किसी भी जानकारी के लिए राज्य हज कमेटी से संपर्क कर सकते हैं।

भोपाल इंबार्केशन पॉइंट से यात्रा पर ज्यादा लगे

-2018 में 35 हजार रुपये

-2019 में 12 हजार रुपये

-2020 में 32 हजार रुपये

-प्रदेश से 4864 यात्री करेंगे यात्रा

-13 हजार आवेदन, कुरआ के जरिए चयन।

Posted By: Nai Dunia News Network