भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। नगर निगम की फायरब्रिगेड शाखा में कार्यरत रफीउद्दीन उस वक्त सकते में आ गए, जब लोगों ने फोन पर उनके दोस्त की खैरियत पूछना शुरू कर दी। रफीउद्दीन ने जब वस्तुस्थिति पता की तो पता चला कि उनकी फेसबुक आईडी हैक कर उनके नाम से कोई वसूली कर रहा है। कहा जा रहा है कि उनके दोस्त का बेटा संक्रमित हो गया है। उसे पैसों की जरूरत है। उन्होंने मामले की शिकायत क्राइम ब्रांच की सायबर विंग में की है। दरअसल, कोरोना अब सायबर अपराधियों का हथियार बन रह रहा है। इस वायरस का संक्रमण रोकने के लिए देश में लॉकडाउन है। मेल जोल से बचने के लिए अधिकतर लोग ऑनलाइन बैंकिंग का इस्तेमाल कर रहे हैं। इस बात का फायदा उठाते हुए सायबर अपराधी भी सक्रिय हो गए हैं। अब वह कोरोना की आड़ लेकर भावनात्मक अपील करते हुए भी लोगों से रुपए ऐंठ रहे हैं। इसके लिए वह लोगों की फेसबुक आईडी हैक कर संबंधित व्यक्ति के नाम से उसके दोस्तों से रुपए वसूल रहे हैं। लॉकडाउन में अभी तक इस तरह के 13 केस सामने आ चुके हैं।

बोलो- कोरोना से मां की दुबई में मौत हो गई है

सायबर थाना पुलिस ने हाल ही में कोलार रोड क्षेत्र में रहने वाले अमन वर्मा(32) को गिरफ्तार किया है। एक युवती का परिचय अमन की शादी डॉट कॉम पर मौजूद आकर्षक प्रोफाइल देखकर हुआ था। अमन ने अपने पिता को सरकारी ठेकेदार और मां को डॉक्टर बताया था। परिचय हुए कुछ समय बीता था कि अमन ने युवती को बताया कि उसके माता-पिता दुबई में लॉकडाउन में फंस गए थे। मां की कोविड-19 के संक्रमण से मौत हो गई है। उसे एक लाख रुपए की जरूरत है। भावुकता में आकर युवती ने पेटीएम अकाउंट से एक लाख रुपए ट्रांसफर कर दिए। उधर, दूसरी मैट्रीमोनियल साइट्स पर सर्चिंग के दौरान युवती ने अमन की दूसरे नाम से कुछ और प्रोफाइल देखीं। ठगी का अहसास होने पर युवती ने सायबर थाना में शिकायत दर्ज कराई थी।

अज्ञात व्यक्ति का फोन आए तो सतर्क हो जाएं

क्राइम ब्रांच की सायबर विंग के एएसपी संदेश जैन ने बताया कि लॉकडाउन के कारण लोग ऑनलाइन बैंकिंग का इस्तेमाल कर रहे हैं। इसको देखते हुए सायबर अपराधी फोन पर लोगों को ठगी का शिकार बना रहे हैं। अपराधी फोन करके यह साबित करने की कोशिश करता है कि वह उनका पुराना परिचित है। झांसे में फंसते ही वह रुपए भेजने की बात कहते हुए अकाउंट संबंधित जानकारी हासिल कर लेता है। इसके बाद कुछ ही मिनट में संबंधित व्यक्ति के खाते से रकम अलग-अलग अकाउंट में ट्रांसफर कर उड़ा ली जाती है। एएसपी बताते हैं कि लॉकडाउन में अभी तक इस तरह के 13 केस सामने आ चुके हैं।

ठगी से बचने इन बातों का ध्यान रखें

- फोन पर अंजान व्यक्ति के कहने पर न कोई धनराशि अपने बैंक खाते में प्राप्त करें और न ही किसी अंजान व्यक्ति के खाते में ट्रांसफर करें।

- फोन पर अंजान व्यक्ति से बात करते समय अपने मोबाईल वॉलेट जैस पेटीम, फोन-पे आदि का उपयोग करते समय अंजान व्यक्ति को कुछ न बताएं।

- किसी अंजान व्यक्ति को बैंक/वॉलेट से संबंधित कोई गोपनीय जानकारी साझा न करें।

- यदि आपके पास इस प्रकार का कोई मदद का कॉल आता है तो तुरंत इसकी सूचना नजदीकी पुलिस स्टेशन या सायबर क्राईम भोपाल को दें।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना