भोपाल KaKa Hathrasi Birthday । जिस टाइपराइटर से कवि काका हाथरसी हास्य और व्यंग्य में पगी गुदगुदाती हुई कविताएं लिखा करते थे, वह टाइपराइटर शहर के दुष्यंत संग्रहालय में मौजूद है। उत्तर प्रदेश के हाथरस के रहने वाले काका का टाइपराइटर भोपाल कैसे आया इसकी कहानी भी दिलचस्प है।

इस टाइपराइटर को काका ने 1965 में खरीदा था। 1969 में उन्होंने यह टाइपराइटर बालकवि बैरागी को दे दिया था, जिसे बैरागी ने दुष्यंत संग्रहालय को दे दिया था। वह टाइप राइटर आज भी यादगार संग्रह के रूप में शहर के छह नंबर इलाके में स्थित संग्रहालय में रखा हुआ है।

संग्रहालय के निदेशक राजुरकर राज ने बताया कि बाबा के दामाद और मशहूर कवि अशोक चक्रधर एक बार दुष्यंत संग्रहालय आए थे। तब उन्होंने टाइपराइटर देखकर बताया था कि यह बाबा का ही है। मैंने इससे लिखते हुए उन्हें देखा है। उल्लेखनीय कि बाबा ने कविताओं की करीब सौ किताबें लिखी हैं। गुदगुदाने वाली शैली को कई कवियों ने अपनाया। राजुरकर राज ने बताया कि काका हाथरसी भोपाल में भी कई बार काव्यपाठ करने आए।

गुदगुदाते थे काका हाथरसी

हास्य कवि काका हाथरसी का असली नाम प्रभुलाल गर्ग था। काका हाथरसी का जन्म 18 सितंबर 1906 को उत्तर प्रदेश के हाथरस में हुआ था, उनकी मृत्यु भी 18 सितंबर के ही दिन 1995 में हुई। काका हाथरसी अपनी कविताओं में अव्यवस्था और भ्रष्टाचार पर चोट करते थे और हास्य व्यंग्य की चाशनी में लपेटकर इसे प्रस्तुत करते थे। काका की कविताओं को पढ़ने के साथ उनसे सुनने का एक अलग आनंद था। मंच पर उनके काव्यपाठ की शैली को हिंदी में कई हास्य कवियों ने अपनाया। काका हाथरसी का गुदगुदाने वाला अंदाज हमारे समाज की विडंबनाओं को बड़ी सहजता के साथ सामने लाता था।

खत्म हो गया आटा

राशन की दुकान पर, देख भयंकर भीर

क्यू में धक्का मारकर, पहुंच गये बलवीर

पहुंच गये बलवीर, ले लिया नंबर पहिला

खड़े रह गये निर्बल, बूढ़े बधो, महिला

कहं 'काका' कवि, करके बंद धरम का कांटा

लाला बोले-भागो, खत्म हो गया आटा

पैरोडी उम्दा होती थी

शहर के व्यंग्य कवि गोकुल सोनी ने बताया कि मैंने काका को कई बार सुना है। वे एक प्रखर कवि थे। उनकी पैरोडी बहुत उम्दा होती थी। उनके समकालीन कवि निर्भय हाथरसी से उनकी कभी नहीं बनी और बाद में उन्होंने निर्भय के साथ मंच साझा करना बंद कर दिया था। काका हालांकि बहुत हंसमुख स्वभाव के थे और अपरिचितों से भी आत्मीयता मिलते थे।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020