भोपाल। बंगाल की खाड़ी और अरब सागर में बने सिस्टम से प्रदेश में बड़े पैमाने पर नमी आ रही है। इससे राजधानी सहित प्रदेश के कई स्थानों पर रुक-रुक कर बौछारें पड़ने का सिलसिला जारी है। मौसम विज्ञानियों के मुताबिक मौजूदा स्थिति को देखते हुए मानसून के सितंबर माह में विदा होने के आसार नहीं दिख रहे हैं।

मौसम विज्ञान केंद्र के वरिष्ठ मौसम विज्ञानी अजय शुक्ला ने बताया कि रविवार सुबह 8ः30 बजे तक शहर में 1708.6 मिमी. बरसात हो चुकी है,जो कि सामान्य से 658.4 मिमी.(66सेमी.) अधिक है। वर्तमान में बंगाल की खाड़ी में आंध्रा के तट पर एक ऊपरी हवा का चक्रवात बना हुआ है। इसी तरह अरब सागर में बना कम दबाव का क्षेत्र और गहरा हो गया है। इससे प्रदेश में काफी नमी आ रही है।

इसके अतिरिक्त प्रदेश के दक्षिण-पूर्व क्षेत्र पर एक ऊपरी हवा का चक्रवात बना हुआ है। इससे राजधानी सहित प्रदेश के कई स्थानों पर गरज-चमक के साथ बौछारें पड़ने का सिलसिला बना हुआ है। शुक्ला के मुताबिक राजधानी में धूप निकलने के बाद शाम के समय रुक-रुक कर बौछारें पड़ने की संभावना बनी रहेगी। उन्होंने बताया कि अमूमन मानसून 15 सितंबर के आसपास राजस्थान के पश्चिमी क्षेत्र से विदा होना शुरू हो जाता हैं। लेकिन इस बार अभी तक ऐसी स्थिति अभी तक नहीं बनी है। इससे मप्र में भी मानसून के सितंबर माह में विदा होने की संभावना नहीं दिख रही है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस