भोपाल, नवदुनिया प्रतिनिधि। मप्र बोर्ड के कक्षा नौवीं और ग्यारहवीं की वार्षिक और दसवीं व बारहवीं के प्री-बोर्ड परीक्षा इस बार विद्यार्थी घर से परीक्षा देंगे। कोरोना काल के कारण स्कूल शिक्षा विभाग इस बार परीक्षा ओपन बुक पद्धति पर ले रहा है। इसके लिए सोमवार को स्कूलों में नौवीं, ग्यारहवीं और दसवीं व बारहवीं के विद्यार्थियों को सुबह नौ बजे से दोपहर 12 बजे तक प्रश्नपत्र और उत्तरपुस्तिकाएं वितरित की गईं। स्कूलों में कॉपी और पेपर बांटने से पहले विद्यार्थियों को सैनिटाइज किया गया। सभी स्कूलों में सुरक्षित शारीरिक दूरी का पालन किया गया। राजधानी में इन परीक्षा में शामिल होने वाले 90 फीसद विद्यार्थी पेपर और उत्तरपुस्तिकाएं लेकर घर चले गए। अब वे आराम से कापियों को लिखकर स्कूल में जमा करेंगे। करीब दस फीसद विद्यार्थी बाहर होने के कारण कॉपी व पेपर लेने नहीं पहुंचे, जिन्हें स्कूल की तरफ से ऑनलाइन प्रश्नपत्र भेजा गया। वे अपनी कॉपी में लिखकर स्कूल में जमा करेंगे।

प्राचार्यों ने कोरोना संक्रमण की स्थिति को देखते हुए विद्यार्थियों को अलग-अलग समय पर कॉपी जमा करने के निर्देश दिए हैं। विद्यार्थियों को आगाह किया गया है कि विद्यार्थी अपनी कॉपियां स्वयं लिखें। वे अपनी दोस्तों और पारिवारिक सदस्यों से कॉपियों को नहीं लिखवाएं। लोक शिक्षण संचालनालय (डीपीआई) ने निर्देश में दिए हैं कि उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन स्कूल के शिक्षकों द्वारा किया जाएंगे। शिक्षक चाहे तो घर ले जाकर मूल्यांकन कर सकेंगे। प्राचार्य अनिवार्यत: 30 अप्रैल तक विमर्श पोर्टल पर परीक्षा परिणाम अपलोड करेंगे।

चूनाभट्टी व अकबरपुर स्थित स्कूल नहीं खुले

चूनाभट्टी व अकबरपुर स्थित सरकारी स्कूलों के विद्यार्थियों को कॉपियों व प्रश्नपत्रों का वितरण नहीं किया जा सका। इन क्षेत्रों में कोरोना के कारण लॉकडाउन लगा है। इन क्षेत्रों में 19 अप्रैल तक लॉकडाउन लगाया गया है। यहां पर बाद में परीक्षा ली जाएगी।

ऑनलाइन भी प्रश्नपत्र भेजा गया

सुधाकर पाराशर ने बताया कि जिन क्षेत्रों के बच्चे स्कूल नहीं आ सकें। उन्हें ऑनलाइन प्रश्नपत्र भी भेजा गया, ताकि वे घर से परीक्षा दे सकें। इसके अलावा छात्रावासों के विद्यार्थियों को कहा गया है कि वे अपने गृह नगर के नजदीकी स्कूल में कॉपी जमा कर सकते हैं।

जिले के 90 फीसद विद्यार्थियों को कॉपी व प्रश्नपत्र वितरित कर दिए गए हैं। अब वे अलग-अलग तारीख को कॉपी जमा करेंगे।

- नितिन सक्सेना, जिला शिक्षा अधिकारी, भोपाल

Posted By: Ravindra Soni

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags