Akshaya Tritiya 2020 : भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। एक पखवाड़े से कोरोना वायरस सक्रिय है। यह कई लोगों को अपना शिकार बना चुका है। इसके कंट्रोल के लिए सरकार ने कई कदम उठाए हैं। आगामी आदेश तक सभी सरकारी और गैर सरकारी आयोजनों पर रोक लगा दी गई है। इससे अगले महीने 26 अप्रैल को अक्षय तृतीया पर अबूझ मुहूर्त में शादी समारोह नहीं होंगे। यह खबर उन युवक-युवतियों को निराश कर देने वाली है, जिनके रिश्ते तय हो गए थे, सिर्फ सात फेरे लेना शेष रह गया था। वहीं शादियां कराने वाली सामाजिक संस्थाओं की पिछले दो माह से तैयारियां चल रहीं थीं। कुछ इंट्रियां भी आ चुकी थीं। इधर, केंद्र सरकार ने कोरोना वायरस से निपटने तीन माह की रणनीति बनाई है। जून तक वायरस पर काबू पाने सिस्टम को लगाया है। जून तक किसी भी आयोजन के लिए अनुमति नहीं मिलेगी।

सामाजिक संगठनों ने शुरू कर दी थी तैयारी : शहर में कई सामाजिक संस्थाएं हैं, जो सामूहिक विवाह सम्मेलन कराती हैं। जिनकी तैयारियां भी चल रही हैं। श्री 360 गोत्रीय खटीक समाज के अध्यक्ष राहुल राजौरे ने बताया कि तैयारियों को लेकर नई समिति गठित की थी, जो पिछले दो माह से कार्य रही है, लेकिन अब अक्षय तृतीया पर सम्मेलन नहीं होगा। त्रिदेवी मां वैष्णो जन कल्याण समिति के अध्यक्ष विनोद पलया ने बताया कि वर्ष 2006 से प्रतिवर्ष अक्षय तृतीया पर सामूहिक सम्मेलन हो रहे हैं।

इस वर्ष 39 में से 9 तिथियों में हो सकेंगी शादियां

14 मार्च से 13 अप्रैल तक खरमास चल रहे हैं। मां चामुंडा दरबार के पुजारी पं. रामजीवन दुबे व ज्योतिषाचार्य विनोद रावत ने बताया कि इस वर्ष 13 अप्रैल से 11 दिसंबर तक कुल 39 शुभ तिथियां हैं। 14 से 27 अप्रैल तक कुल 6 दिन, 26 अप्रैल को अक्षय तृतीया, मई में 16 दिन, जून में 8 दिन शुभ मुहूर्त हैं। इसके बाद एक जुलाई से 25 नवंबर तक चातुर्मास में शादियां बंद रहेंगी। नवबंर में मात्र दो दिन और दिसंबर में 7 दिन शुभ तिथियां हैं। अप्रैल से जुलाई तक 30 शुभ तिथियां हैं। इस दौरान भी महामारी के चलते शादियां होना संभव नहीं हैं। यही वजह है कि नवंबर तक यानि आठ महीने विवाह के लिए इंतजार करना पड़ सकता है। वायरस के चलते अक्षय तृतीया पर विवाह सम्मेलन को लेकर आयोजक मुश्किल में फस गए हैं। इस वर्ष भी तैयारियां थी, लेकिन वायरस के चलते संस्था अक्षय तृतीया पर आयोजन नहीं करेगी। इसी प्रकार अन्य समाजों ने भी विवाह सम्मेलन नहीं करने का निर्णय लिया है।

राष्ट्रीय विपत्ति और प्राकृतिक आपदा के समय में शादी आदि मांगलिक कार्य करना ठीक नहीं होता है। ज्योतिषी गणना के अनुसार गुरु का नीच होना महिलाओं के लिए शुभ नहीं होता। गुरु नीच होने की दशा में शादियां 14 मई तक टालना बेहतर रहेगा। अगर बहुत जरूरी है तो लॉक डाउन के बाद प्रशासन से परमिशन लेकर कोर्ट मैरिज या मंदिर से कर सकते हैं। वैसे शादी समारोह उत्साह के प्रतीक होते हैं, इसलिए बेहतर होगा अभी इन आयोजनों से बचें। - अंजना गुप्ता, ज्योतिषाचार्य

शादी जीवन के महत्वपूर्ण संस्कार का अंग शादी जीवन के महत्वपूर्ण संस्कारों में से एक है। इसके बिना परिवार की कल्पना नहीं की जा सकती है। ज्योतिषी गणना के हिसाब ससे अभी के हालातों में शनि की चार राशियों वृषभ, मकर, धनु और कुंभ में साढ़े साती चल रही है। यह बलवान ग्रह है। वह अपने सामने किसी को पनपने नहीं देगा। अप्रैल माह के अंत तक वायरस का अंत कर देगा। इसके बाद प्रशासन चाहे तो बड़े मैदान में वायरस प्रोटोकाल के हिसाब से शादियां करवा सकता है। - पं. रूपनारायण शास्त्री ज्योतिषी, शिवाजी नगर

Posted By: Prashant Pandey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना