भोपाल(राज्य ब्यूरो)। करीब छह साल के इंतजार के बाद प्रदेश के 69 हजार 316 आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं और दो हजार 429 पर्यवेक्षकों को मोबाइल फोन (स्मार्टफोन) मिलने जा रहा है। महिला एवं बाल विकास विभाग ने जिला स्तर पर मोबाइल फोन खरीद लिए हैं। जिनका वितरण सोमवार से शुरू हो रहा है। अपने गृह जिले सीहोर के आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं और पर्यवेक्षकों को वर्चुअल कार्यक्रम में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान मोबाइल बांटेंगे। मोबाइल फोन पोषण अभियान की नियमित निगरानी के लिए दिया जा रहा है।

कुपोषण की स्थिति से उबरने के लिए केंद्र सरकार पूरे देश में पोषण अभियान की निगरानी मोबाइल फोन से करा रही है। इसके लिए पोषण ट्रेकर एप्लीकेशन (एप) डिजाइन किया गया है। केंद्र सरकार ने सभी राज्यों को 10 हजार रुपये प्रति आंगनबाड़ी कार्यकर्ता की दर से राशि दी थी।

मध्य प्रदेश सरकार को यह राशि वर्ष 2016 में मिल गई थी और उसके बाद मोबाइल फोन खरीदने के चार प्रयास हुए, पर चारों बार नियमों के विरुद्ध चहेतों को मोबाइल फोन का आर्डर देने की शिकायतों के चलते निविदाएं निरस्त करना पड़ी। वर्ष 2020 में यह मुद्दा 'नवदुनिया" ने उठाया था। अखबार ने केंद्रीयकृत खरीद पर सवाल खड़े करते हुए सरकार को यह भी सुझाव दिया था कि कार्यकर्ताओं को मोबाइल फोन की राशि दे दी जाए या जिला स्तर (विकेंद्रीकृत) पर खरीद की जाए।

सरकार ने पहले आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को राशि देने के विकल्प पर काम किया। मुख्यमंत्री, मुख्य सचिव और विभाग के प्रमुख सचिव ने केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री को पत्र लिखकर इसकी अनुमति मांगी, पर इसके लिए नियमों में संशोधन करना होता। इसलिए जिला स्तर पर खरीद का निर्णय लिया गया। विभाग ने दिसंबर 2021 में मोबाइल फोन खरीदने की प्रक्रिया तय कर कलेक्टरों को 18 फरवरी 2022 तक सभी कार्यकर्ताओं को मोबाइल फोन देने के निर्देश दिए थे।

सीहोर के आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को मुख्यमंत्री बांटेंगे मोबाइल फोन

सीहोर जिले की 1415 आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं और 50 पर्यवेक्षकों को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सोमवार को मोबाइल फोन बांटेंगे। इसी के साथ 36 जिलों में 69 हजार 316 आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं एवं दो हजार 429 पर्यवेक्षकों को जिला स्तर से मोबाइल फोन बांटने का सिलसिला शुरू हो जाएगा। ज्ञात हो कि सरकार 16 जिलों के 27 हजार 817 आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को मोबाइल फोन एवं 972 पर्यवेक्षकों को टेबलेट दे चुकी है।

मोबाइल फोन से होगी पोषण अभियान की निगरानी

मोबाइल फोन पोषण अभियान की निगरानी के लिए दिए जा रहे हैं। सरकार पोषण ट्रेकर एप्लीकेशन (एप) के माध्यम से निगरानी करेगी। आंगनबाड़ी केंद्रों में दी जा रहीं सेवाओं की दैनिक जानकारी कार्यकर्ता एप में दर्ज करते हैं। जिससे विकासखंड, जिला एवं राज्य स्तर पर प्रतिदिन निगरानी की जा सकती है।

नेट कनेक्टिविटी के लिए दो सौ रुपये

एप चलाने के लिए नेट कनेक्टिविटी की जरूरत है। इसके लिए आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को दो सौ रुपये प्रति माह दिए जाते हैं। एप में निर्धारित मापदंड के अनुसार जानकारी दर्ज करने पर कार्यकर्ताओं को पांच सौ रुपये और सहायिका को 250 रुपये प्रोत्साहन स्वरूप दिए जाते हैं। ज्ञात हो कि प्रदेश मेें 97 हजार 135 आंगनबाड़ी केंद्र हैं।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

NaiDunia Local
NaiDunia Local