- राजधानी परियोजना का है एकांत पार्क

- बतखों के जोड़ों को बोट क्लब छुड़वाने से पार्क प्रेमी नाराज

भोपाल। नवदुनिया प्रतिनिधि

अभी तक आप और आपके बच्चे एकांत पार्क में बतख देखकर खुश होते थे तो आगे आपको खुश होने के मौके नहीं मिलेंगे। क्योंकि यहां से सभी बतख अचानक बोट क्लब छोड़ दी गई हैं। बुधवार को करीब चालीस बतख छोड़ी गई हैं। ये काम राजधानी परियोजना के अधिकारियों ने किया है। अधिकारियों का तर्क है कि पार्क में बतखों के लिए अनुकूल माहौल नहीं था। जबकि बोट क्लब अच्छा विकल्प है, वहां पहले से भी दर्जनों बतख हैं। वहीं अंदर की चर्चा है कि पार्क के अंदर पानी ठीक नहीं है, प्रदूषित है। इस वजह से बतखों की जान पर संकट मंडरा रहा था। कुछ की मौत भी हो चुकी है। उनके खाने का इंतजाम ठीक नहीं था। इन सब बातों को देखते हुए सभी बतखों को छोड़ा गया है।

-----------

शहर में लिंक रोड नंबर-3 पर कल्चुरी भवन के पास एकांत पार्क काफी बड़ा और प्रसिद्घ है। यहां सैकड़ों पर्यटक सुबह-शाम टहलने आते हैं। उनके साथ बच्चे भी आते हैं। छोड़े गई बतख बच्चों को सबसे ज्यादा पसंद थीं। बड़े भी उनके लिए घर से दाने लेकर आते थें और उन्हें खिलाते थे। दो दिन से बतख नहीं दिख रही हैं। इसको लेकर टहलने वालों ने पूछताछ शुरू की तो पता चला कि बतख तो बोट क्लब में छोड़ दी गई हैं। तब मामला सामने आया है।

- सीसीएफ का तर्क : जो बतखों के लिए अच्छा था वही किया

इस मामले में राजधानी परियोजना के सीसीएफ संजय श्रीवास्तव का कहना है कि जो बतखों की जान के लिए अच्छा दिखा, वही किया है। सभी बतख सकुशल छोड़ दी हैं। उन्होंने बताया कि ये पांच से छह साल से पार्क में थे। इनकी संख्या भी बढ़ रही थी, लेकिन उनके लिए और अच्छे अनुकूल रहवास स्थल की जरूरत थी जो बोट क्लब के रूप में था, इसलिए वहां छोड़ दिया है। बाकी की कोई दिक्कत नहीं थी। पार्क में प्राकृतिक रूप से चिड़ियां हैं, उनकी आवाजें भी आती हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020