भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। मई माह ग्रहों और ज्योतिष के लिहाज से बेहद अहम माना जा रहा है। पंड़ित व ज्योतिषों के अनुसार इस माह छह ग्रह जहां अपनी राशियां बदलेंगे। वहीं साल का पहला चद्रग्रहण भी रहेगा। इसके चलते देश व प्रदेश में काफी उथल-पुथल की स्थिति बनेगी। चंद्रग्रहण के बाद यानी 26 मई के बाद देश व प्रदेश से कोरोना की रफ्तार थमेंगी। मां चामुंडा दरबार के पुजारी रामजीवन दुबे ने बताया कि एक तो इस माह चंद्र ग्रहण भी पड़ रहा है। जो कि वृश्चिक राशि में पड़ेगा और दूसरी ओर 6 ग्रहों का राशि परिवर्तन भी होने जा रहा है। महाभारत के समय भी ऐसे योग बने थे। इसलिए भी इस वर्ष को अहम माना जा रहा है। ज्योतिष विनोद रावत के ने बताया सबसे पहले बुध्दि के राजा और करियर के संचालक माने जाने वाले बुध ग्रह पिछले सप्ताह मेष से वृष राशि में चले गए। उसके बाद चार मई को प्यार और सौंदर्य के कारक शुक्रदेव अपनी ही राशि वृष में संचार करेंगे। उसके बाद 14 मई को सम्मान के देवता सूर्यदेव वृष राशि में आएंगे। फिर 23 मई को न्याय के देवता कहलाने वाले शनि देव वक्री चाल से चलना आरंभ करेंगे। 26 मई को बुध वृष से निकलकर मिथुन में आएंगे। उसके बाद 28 मई को शुक्र वृष से निकलकर मिथुन में आएंगे। इसके साथ ही 26 मई को चंद्रग्रहण होने से ज्योतिष के लिहाज से काफी उथल-पुथल हो सकती है। इन सभी बदलावों से इन छह राशियों के लोगों को विशेष लाभ प्राप्त होने वाला है।

Posted By: Lalit Katariya

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags