भोपाल। अयोध्या में रामजन्म भूमि पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के दूसरे दिन भी मध्य प्रदेश में पुलिस अलर्ट पर रही। प्रदेश में ईद मिलाद-उन-नबी जुलूस निकाले जाने को लेकर कुछ जिलों में इंटरनेट सेवाओं को बाधित किया गया, जो देर शाम बहाल कर दी गईं। आला पुलिस अफसरों ने पुलिस मुख्यालय पहुंचकर राज्य स्थिति कक्ष में प्रदेश की कानून व्यवस्था का जायजा लिया। ईद मिलाद-उन-नबी को लेकर पीएचक्यू ने नजर रखी और सभी जिलों से रिपोर्ट मांगी। वहीं, मुख्यमंत्री कमलनाथ ने फैसले के दूसरे दिन अपने सभी कार्यक्रमों को निरस्त कर दिया। संभवत: सोमवार के भी उनके कार्यक्रम नहीं होंगे। हालांकि वे दिनभर अफसरों से प्रदेश की स्थिति को लेकर फीडबैक लेते रहे।

रविवार को भी मध्य प्रदेश में कानून-व्यवस्था की स्थिति सामान्य रही। ईद मिलाद-उन-नबी और गुरुनानक जयंती पर प्रकाश पर्व की तैयारियों को लेकर आयोजनों पर पुलिस की खुफिया नजरें रहीं। ईद मिलाद-उन-नबी के जुलूस भोपाल-इंदौर सहित कुछ अन्य शहरों में स्थगित कर दिए जाने से पुलिस ने राहत की सांस ली। बताया जाता है कि टीकमगढ़, दमोह, छतरपुर, खंडवा जिलों में ईद मिलाद-उन-नबी जुलूस निकाले जाने को लेकर इंटरनेट सेवाओं को बाधित कर दिया गया था। खंडवा में शाम को इन सेवाओं को बहाल भी कर दिया गया।

देर शाम तक बुंदेलखंड के जिलों में भी इंटरनेट सेवाएं चालू कर दी गईं। प्रदेश के शेष जिलों में ईद मिलाद उन नबी पर जुलूस नहीं निकाले गए। मिलाद उन नबी पर नमाज के लिए पुलिस ने अतिरिक्त इंतजाम किए थे। नमाज के पहले और बाद में मस्जिद के आसपास पुलिस ने विशेष सतर्कता बरती। इसी तरह गुरुनानक जयंती की तैयारियों के लिए भी गुरुद्वारों में सिख समाज की बैठकें हुईं हैं, जिनके लिए पुलिस ने जवानों की तैनाती की थी।

जिलों की रिपोर्ट पर पीएचक्यू की नजर रही

पुलिस मुख्यालय में राज्य स्थिति कक्ष (एसएसआर) इंटेलीजेंस शाखा के आला अधिकारी सुबह से ही पहुंच गए थे। वे जिलों से आने वाली रिपोर्ट पर नजर रखे थे और सरकार को उनके बारे में अवगत करा रहे थे। इंटेलीजेंस प्रमुख एडीजी डॉ. एसडब्ल्यू नकवी राज्य स्थिति कक्ष में पूरे समय मौजूद थे। वहीं, डीजीपी वीके सिंह भी संवेदनशील जिलों व क्षेत्रों के बारे में स्थिति जानने के लिए मैदानी अधिकारियों से सतत संपर्क में रहे।

दूसरी तरफ मुख्यमंत्री कमलनाथ ने अयोध्या फैसले के मद्देनजर भोपाल में ही रहे। रविवार को उन्हें इंदौर में दो कार्यक्रमों में पहुंचाना था और सोमवार को भोपाल में अर्जुन सिंह की प्रतिमा के अनावरण कार्यक्रम को उन्होंने स्थगित करवा दिया। अयोध्या फैसला आने की अटकलों के बीच सीएम की कलेक्टर और संभागायुक्तों के साथ पूर्व निर्धारित वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग को भी निरस्त कर दिया है, क्योंकि अब फैसला आ चुका है।

Posted By: Hemant Upadhyay