भोपाल, नवदुनिया प्रतिनिधि। राजधानीवासियों के लिए एक अच्छी खबर है। यदि सबकुछ ठीक रहा तो शहर में बैंगलुरु की तर्ज पर जल्‍द ही अजीम प्रेमजी यूनिवर्सिटी खुल सकती है। इसके लिए जिला प्रशासन ने कान्हासैया में 50 एकड़ जमीन आरक्षित करने का प्रस्ताव मप्र शासन को भेज दिया है। यह प्रस्ताव नए नजूल व्यवपवर्तन नियम के तहत भेजा गया है। इसके लिए बाकायदा 13 करोड़ स्र्पये का प्रीमियम और भू-भाटक भी जमा कर दिया गया है। वहीं जमीन आवंटन के लिए 10 हजार 100 स्र्पये की राशि अलग से जमा भी करवा दी गई है। वेबजीआइएस के माध्यम से यह कार्रवाई की जा रही है। अब इस प्रस्ताव पर राज्यस्तरीय कमेटी निर्णय लेगी।

दरअसल, कान्हासैया में खसरा नंबर 40 व 51 जो की सरकारी जमीन के नाम पर राजस्व रिकार्ड में दर्ज है, उस जमीन को यूनिवसिर्टी को दिया जा रहा है। राजस्व रिकार्ड में यह जमीन खेती की जमीन के नाम से दर्ज है। इस जमीन को डायवर्ट किया जाएगा।

चलाए जाएंगे सामाजिक सरोकार के पीजी और यूजी कोर्सेस

जानकारी के अनुसार 2010 में कर्नाटक के बेंगलुरू में अजीम प्रेमजी फाउंडेशन के तहत यूनिवसिर्टी बनाई गई थी। यह नॉन प्राफिट वेंचर है। वहीं विगत 7 सालों से राजधानी भोपाल में यह फाउंडेशन सामाजिक उत्थान और सामाजिक सरोकार के क्षेत्र में काम कर रहा है। लिहाजा विवि के निर्माण के लिए जमीन देने का प्रस्ताव विगत दिनों दिया गया था।

Posted By: Ravindra Soni

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस