Bharat Jodo Yatra: भोपाल (राज्य ब्यूरो)। भारत जोड़ो यात्रा के दौरान मध्य प्रदेश के खंडवा में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के आरएसएस द्वारा अंग्रेजों का साथ देने को लेकर दिए बयान पर भाजपा ने उनकी समझ पर सवाल उठाए हैं। प्रदेश भाजपा के संगठन महामंत्री हितानंद ने कहा कि जिन्हें इतिहास का ज्ञान न हो, वे केवल जनता को गुमराह ही करेंगे। वहीं, प्रदेश भाजपा अध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा ने कहा कि राहुल गांधी मानसिक रूप से दिवालिया हो चुके हैं। सीएम श‍िवराज सिंह चौहान ने भी कांग्रेस और राहुल गांधी पर निशाना साधा है।

दरअसल, राहुल ने टंट्या मामा की जन्मस्थली बड़ोदा अहीर में आयोजित सभा में कहा था कि जनजातीय जननायक टंट्या मामा को अंग्रेजों ने फांसी पर चढ़ाया और पूरी दुनिया जानती है कि आरएसएस (राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ) और उसकी विचारधारा ने अंग्रेजों की मदद की।

राहुल गांधी द्वारा आरएसएस को लेकर कही गई बात पर भाजपा नेेताओं ने प्रतिक्रिया व्यक्त कर उनकी समझ पर सवाल उठाए हैं।

प्रदेश संगठन महामंत्री ने कहा कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) की स्थापना 1925 में हुई। बिरसा मुंडा का बलिदान वर्ष 1900, टंट्या मामा का 1889, राजा शंकर शाह-रघुनाथ शाह का 1857 में हुआ। ऐसे कई जनजातीय महापुरुष रहे, जिनका बलिदान संघ की स्थापना के पहले ही हो गया था। जनता को गुमराह किया जा रहा है।

पार्टी के प्रदेश मंत्री रजनीश अग्रवाल ने कहा कि यह एक बार फिर सिद्ध हो गया कि राहुल गांधी में न गंभीरता है और न ही इतिहास की जानकारी है। उन्‍हें भारत के गौरव महापुरुषों की कोई जानकारी भी नहीं है। जिस विकृत मानसिकता के साथ उन्होंने आरोप लगाया है, यदि किसी ने उन्हें बता-समझा दिया होता तो आज यह नौबत नहीं आती। तथ्यों से तोड़-मरोड़ करके घृणित मानसिकता के साथ में यह बात कही है क्योंकि इतिहास की तारीखें बताती हैं कि बड़े पद पर बैठकर घटिया राजनीति की गई है। जिस तरह की उन्होंने बात कही है वह सामाजिक अपराध और राष्ट्रीय महापुरुषों के प्रति पाप है।

मुख्‍यमंत्री श‍िवराज सिंह चौहान का बयान

राहुल गांधी के बयान पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मुझे लगता है कि राहुल गांधी की मानसिक आयु बहुत कम है। बुद्धि या तो है नहीं या फिर उसका उपयोग नहीं करते हैं। संघ की स्थापना वर्ष 1925 में हुर्ई। हमारे जो क्रांति नायक हैं, चाहे भगवान बिरसा मुंडा हों या फिर टंट्या मामा, इनका बलिदान वर्ष 1900 के पहले हो गया था। तब संघ था कहां। इन पर कौन भरोसा करेगा।

कोई जिम्मेदार व्यक्ति ऐसा बयान नहीं दे सकता

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा ने कहा कि कोई जिम्मेदार व्यक्ति ऐसा बयान नहीं दे सकता है। इसके पूर्व उन्होंने वीर सावरकर को लेकर भी इसी तरह की बात कही थी। इस बयान की संघ से जुड़े विचारक प्रशांत पोल ने निंदा की है। उन्होंने कहा कि संघ प्रारंभ से ही अंग्रेजों के विरुद्ध रहा है। यहां तक कि संघ की प्रार्थना में ही स्वतंत्रता के लिए अंग्रेजों के विरोध की बात कही गई। संघ संस्थापक डा. केशव बलिराम हेडगेवार स्वतंत्रता संग्राम के दौरान कोलकाता में कई बार जेल गए। साथ ही सैकड़ों संघ कार्यकर्ता सत्याग्रहों में शामिल हुए और जेल गए इसलिए राहुल गांधी का यह कहना कि संघ ने अंग्रेजों की मदद की, मूर्खता है।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close