Bhopal Crime News : भोपाल, नवदुनिया प्रतिनिधि। क्राइम ब्रांच की पूछताछ में डकैत गिरोह से भोपाल शहर में हुई चोरी की दो दर्जन वारदातों का राजफाश हुआ है। इस गिरोह को करीब 18 दिन पहले मिसरोद पुलिस ने गिरफ्तार किया था। गिरोह के तीन साथी फिलहाल फरार हैं, जिनकी तलाश की जा रही है। पूछताछ में पता चला कि बदमाश काम के बहाने भोपाल आते थे और अंदरूनी कालोनियों में रैकी करने के बाद वारदातों को अंजाम देते थे। चोरी किया गया माल वह अपनी साथी को देते, जिसे वह धार में ज्वेलर्स के पास बेच देता था। पूरा गिरोह धार जिले का रहने वाला है।

जानकारी के अनुसार मिसरोद पुलिस ने पिछले महीने डकैती की योजना बनाते बदमाश भंगू उर्फ भंगिया (26) पार सिंह उर्फ पारस (25), संतोष भंवर (25) और निहाल सिंह देवकर (38) साल को गिरफ्तार किया था। सभी बदमाश धार जिले के रहने वाले बताए गए थे। उनके पास से चोरी और डकैती के लिए उपयोग किए जाने वाले औजार, एक मोटर बाइक और कोलार इलाके से चोरी की गई बारह बोर की एक बंदूक जब्त हुई थी। बाद में बदमाशों को क्राइम ब्रांच ने रिमांड पर लिया था। पूछताछ के दौरान डकैतों ने कोलार इलाके में नौ मिसरोद इलाके में नौ, बागसेवनिया इलाके में पांच और कटारा हिल्स इलाके में एक वारदात करना स्वीकार किया है। उनकी निशानदेही पर चोरी का माल बरामद करने का प्रयास किया जा रहा है।

रैकी के बाद देते थे वारदात को अंजाम

क्राइम ब्रांच ने बताया कि आरोपित काम की तलाश में भोपाल आते थे। वह दिन के समय आउटर कालोनियों में सूने मकानों रैकी करते थे और रात के समय खेतों या नालों के पास बाइक छिपाकर रखकर उसे निकालकर वारदात को अंजाम देते थे। इस डकैत गिरोह का मुखिया कीलू उर्फ कैलाश अलावा, रमेश चौहान और सुनार गौरव जैन फिलहाल फरार है, जिसकी तलाश की जा रही है।

इस प्रकार माल को लगाते थे ठिकाने

पूछताछ में पता चला कि आरोपित निहाल सिंह दिन के समय मकानों की रैकी करता था और रात में साथियों के साथ मिलकर वारदात को अंजाम देता था। चोरी में मिला माल वह रमेश चौहान को देते थे, जिसे वह अलीराजपुर में रहने वाले सुनार गौरव जैन के माध्यम से ठिकाने लगाता था। क्राइम ब्रांच अब उस ज्वेलर्स की तलाश में धार में जा रही है।

Posted By: Lalit Katariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close