भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। राजधानी के सूखीसेवनिया इलाके में 17 साल की एक किशोरी अपने प्रेमी के साथ मिलकर आत्महत्या के इरादे से ट्रेन के सामने कूद गई। इसमें नाबालिग प्रेमिका की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि प्रेमी की हालत नाजुक बनी हुई है। पुलिस ने अब उस पर नाबालिग को खुदकुशी के लिए उकसाने और अपहरण की धाराओं में केस दर्ज कर लिया है। घटना 15 सितंबर की हुई थी। घटना के बाद जीआरपी निशातपुरा ने एफआइआर दर्ज की थी। बाद में गुरुवार को पुलिस ने युवक पर कार्रवाई की।

सूखीसेवनिया पुलिस के मुताबिक मूलत: अशोक नगर की रहने वाली 17 साल की नाबालिग सूखीसेवनिया में अपने भाई और भाभी के साथ पिछले दो माह से रह रही थी। उसने पांचवीं कक्षा तक पढ़ाई की है। उसका भाई एक फैक्ट्री में काम करता है, जबकि 21 साल का धर्मेंद्र उर्फ राजाबाबू सिंह भी अशोक नगर का रहने वाला है। धर्मेंद्र इंदौर में निजी काम करता है। धर्मेंद्र और नाबालिग की अशोक नगर से ही दोस्ती थी। बाद में नाबालिग के परिजनों ने परेशान होकर उसे भोपाल में उसके भाई और भाभी के साथ भेज दिया था।

15 सितंबर को इंदौर से आया

सूखी सेवनिया थाना पुलिस के एसआइ रिंकू जाटव ने बताया कि 15 सितंबर को धर्मेंद्र इंदौर से भोपाल आया था। उसने नाबालिग से मुलाकात की और उसे बहला-फुसलाकर अपने साथ ले गया। बाद में दोनों एक साथ दोपहर में ओमकारा सेवनिया रेलवे ट्रैक पर जाकर ट्रेन के सामने कूद गए। रात नौ बजे के करीब निशातपुरा जीआरपी पुलिस को जानकारी लगी तो उन्होंने मौके पर जाकर देखा तो एक नाबालिग का क्षत-विक्षत शव बरामद हुआ। पास में धर्मेंद्र खून में लथपथ पड़ा था। घायल को हमीदिया अस्पताल में भर्ती कराया गया। जबकि नाबालिग लडड़की की मौत पर जीआरपी रेलवे ने मर्ग कायम कर जांच शुरू की। इधर, घर से लापता होने पर नाबालिग के भाई ने सूखीसेवनिया थाने में जानकारी दी। उसने इस घटना की जानकारी मिलने पर शव की शिनाख्त अपनी बहन के रूप में की। बाद में जांच के बाद साक्ष्यों के आधार पर केस दर्ज किया गया।

दोनों अलग-अलग जाति के हैं

पुलिस जांच में सामने आया कि नाबालिग होने के कारण उसकी मर्जी कोई मायने नहीं रखती है। इसलिए धर्मेंद्र पर अपहरण और खुदकुशी के लिए उकसाने की धाराओं में केस दर्ज किया है। दोनों अलग-अलग जाति के होने के कारण उनके परिजन शादी को तैयार नहीं थे।

Posted By: Lalit Katariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close