भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। गांधी नगर थाना क्षेत्र में 20 दिन पहले दुकान के ऊपर से गुजर रही हाईटेंशन लाइन से करंट लगने के कारण एक किशोर की मौत हो गई थी। इस मामले में जांच में पुलिस को पता चला कि दुकान संचालक ने किशोर को कुछ रुपयों का लालच देकर दुकान पर चढ़कर बैनर बांधने को बोला था। दुकान की छत पर चढ़ने के बाद किशोर को हाईटेंशन लाइन से करंट लग गया था। इससे उसकी मौत हो गई थी। पुलिस ने दुकान संचालक के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है।

गांधी नगर थाना प्रभारी अरुण शर्मा ने बताया कि 17 वर्षीय सचिन पुत्र रामचरण यादव ग्राम डोबरा में परिवार के साथ रहता था। तीन नवंबर की सुबह करीब नौ बजे उसे गांधी नगर स्थित कृषि सेवा केंद्र के नाम से दुकान संचालित करने वाले नितिन चौकसे ने बुलाया था। नितिन की खलीचुनी की दुकान है। उसने सचिन को बैनर बांधने के लिए दुकान के ऊपर चढ़ा दिया था। दुकान की छत पर खड़े होते ही सचिन वहां से गुजर रही हाईटेंशन लाइन के करंट में आकर झुलस गया था। उसे उपचार के लिए एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उपचार के दौरान दो दिन बाद सचिन की मौत हो गई थी। पुलिस ने नितिन के खिलाफ धारा304 (ए) के तहत केस दर्ज कर लिया है।

वनरक्षक पर हमला करने वाले तीन हफ्ते बाद भी पुलिस की पकड़ से दूर

विदिशा के लटेरी में वनरक्षक प्रदीप शर्मा पर चार नवंबर को हमला करने वाले आरोपित 21 दिन बाद भी पुलिस की गिरफ्त से दूर हैं। घायल वनरक्षक का इन दिनों भोपाल के गैलेक्सी अस्पताल में इलाज चल रहा है। इस दौरान बड़ी संख्या में वनकर्मी घायल वनरक्षक से मिलने पहुंचे। वनकर्मियों ने शासन से मांग की कि प्रदीप पर हमला करने वाले लोगों पर कार्रवाई कर उन्हें जल्दी गिरफ्तार किया जाए, ताकि वनकर्मी को न्याय मिल सके। प्रदीप ने बताया कि जंगल में अतिक्रमण कर रहे लोगों को उन्होंने रोकना चाहा तो मौके पर मौजूद महिलाओं ने उन पर हसिए से हमला कर दिया था, जिसमें उनकी उंगली कट गई थी और हमलावरों ने उनके पैर को भी तोड़ दिया था। घटना के 20 दिन बाद भी हमलावरों के गिरफ्तार न होने से वे निराश हैं।

Posted By: Ravindra Soni

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close