भोपाल, नवदुनिया प्रतिनिधि। श्री डालचंद कमलश्री बाई न्यास एवं मुमुक्षु मंडल द्वारा 10 दिवसीय अनुष्ठान के दौरान श्रद्धा-भक्ति और आस्था का अभूतपूर्व संगम दिखाई दे रहा है। जैनमति बाई धर्मशाला में आयोजित विधान में श्री सिद्धचक्र महामंडल विधान का मांडना सजा हुआ है। विधि-विधान से मंत्रोच्‍चार के साथ जगत कल्याण की भावना को लेकर धार्मिक अनुष्ठान विधानाचार्य विद्वान संजय शास्त्री कोटा के निर्देशन में हो रहे हैं। कार्यक्रम संयोजक अरुण वर्धमान ने बताया कि अष्ट द्रव्यों द्वारा सिद्ध भगवान के अनंत गुणों की वंदना की जा रही है। गुरुवार को मंडल पर 300 अर्घ्य समर्पित हुए। विधान के प्रमुख पात्र सुनील-अनीता मनोरिया, सौरभ-पूर्ति जैन, विनोद-बबीता एमपीटी, कमलेश-सरोज बजाज सिलवानी, आशुतोष-रूबी, राजकुमार-अनीता जैन, राजेन्द्र-शशि जैन, स्नेहलता-मनोज जैन, हुकुमचंद-प्रेमश्री जैन द्वारा विधान के मांडने पर विधि-विधान से अनुष्ठान कर अर्घ्य समर्पित किए। अध्यात्मिक शिक्षण शिविर में बालक-बालिकाएं विद्वानों से जैन दर्शन, जैन सिद्धांत के साथ भारतीय संस्कृति और संस्कारों को आत्मसात कर रहे हैं। शाम को सांस्कृतिक कार्यक्रम के दौरान शिक्षा व्रत, नृत्य नाटिकाओं की प्रस्तुति की जाती है।

प्रवचन में पंडित संजय शास्त्री ने कहा कि धार्मिक अनुष्ठानों को समर्पण भाव से किया जाना चाहिए। जगत के सभी प्राणी अत्यधिक आकांक्षा और कामनाओं के कारण दुखी हैं। जिसने स्वयं का अभिनंदन कर लिया उसने जगत का अभिनंदन कर लिया। संसार का प्राणी अपने कर्मों से सुखी और दुखी होता है जो प्राणी सिद्धों की आराधना करते हैं, उनका यश सारे जगत में होता है।

दलाई लामा का जन्मदिन मनाया

उधर, ग्लोबल पीस एक्टिविस्ट डा महेश यादव (अमन गांधी) संरक्षक अखंड भारत मिशन राष्ट्रीय महासचिव डा संतोष कुमार, मानव अधिकारवादी अजय जैन सहित अन्य लोगों ने बुधवार को नोबेल शांति पुरस्कार विजेता व तिब्बती धर्मगुरु दलाई लामा का 87वां जन्मदिन मनाया। उनकी दीर्घायु की कामना की। न्यू मार्केट भोपाल में दलाई लामा के जन्मदिन पर आम नागरिकों मिठाई वितरित की गई। इस अवसर पर अखंड भारत मिशन के राष्ट्रीय महासचिव संतोष कुमार, अजय मिश्रा, वसीम खां, मोहम्मद आमीन खान, ताजुद्दीन और अन्य लोग उपस्थित थे।

Posted By: Ravindra Soni

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close