भोपाल (आनंद दुबे)। माता-पिता ने किशोरावस्था में पहुंचे संजय को माध्यमिक शिक्षा के लिए गांव से भोपाल भेजा। यहां संजय चातुर्मास कर रहे जैन संत ध्यान सागर, समता सागर के प्रवचन सुनने जाता था। बस तभी से उसके मन में वैराग्य की लौ जाग गई थी। पढ़ाई कर चुके संजय के लिए रिश्ता तलाशा जाने लगा था, लेकिन तभी परिवार के सबसे छोटे बेटे अमित जैन ने वैराग्य ले लिया। संजय ने तभी शादी के लिए मना कर आत्मकल्याण के लिए सन्यास की राह पर चलने का फैसला कर लिया था। संजय की बिनोली (गोद भराई) की रस्म पूरी हो चुकी है। सोमवार को संजय झारखंड स्थित जैन तीर्थ स्थल सम्मेद शिखरजी पहुंच गए हैं। वहां 14 नवंबर को वह आचार्यश्री विशुद्ध सागर महाराज से दीक्षा लेंगे। इसके बाद वे मुनि बन जाएंगे। इसके उन्हें नया नाम मिल जाएगा।

पंचशील नगर में रहने वाले राजाराम जैन व्यवसायी है। मूलत: ग्राम रजवास जिला रायसेन के रहने वाले राजाराम के परिवार में पत्नी शांति बाई के अलावा चार बेटे अनिल, पवन, संजय और अमित जैन हैं। इनमें से सबसे छोटे अमित जैन तीन वर्ष पहले सन्यास धारण कर मुनि अनुउत्तर सागर बन चुके हैं। बड़े दोनों बेटे अनिल और पवन विवाहित हैं और स्वयं का व्यवसाय करते हैं। पवन जैन ने बताया कि सातवीं कक्षा के बाद संजय, आठवीं में प्रवेश लेने के लिए भोपाल आया था। यहां तक आचार्य विशुद्ध सागर, समता सागर का चातुर्मास चल रहा था। प्रवचनों में जाने के दौरान ही संजय के मन में वैराग्य लेने की लालसा जागने लगी थी। 12 वीं पास करने के बाद संजय ने वेटरेनरी का डिप्लोमा कोर्स करने के बाद खेती करना शुरू कर दिया था। उसके लिए रिश्ता तलाशा जाने लगा था। इस बीच सबसे छोटे भाई अमित ने सन्यास ले लिया। इसके बाद संजय ने शादी करने से मना कर दिया।

23 सितंबर को हुई थी बिनोली की रस्म

सन्यास की राह पर चल पड़े 45 वर्षीय संजय की बिनोली की रस्म 23 सितंबर को पंचशील नगर स्थित जिनालय में हुई थी। उन्हें रथ पर बैठाकर गाजे-बाजे के साथ शोभायात्रा निकाली गई। उन्होंने 24 तीर्थंकर भगवंतों की वंदना की। परिवार के दूसरे बेटे को भी सन्यास की राह पर जाते देख पिता राजाराम और मां शांतिबाई भावुक हो गई थी। बिनोली की रस्म के बाद संजय ने गृह त्याग कर दिया। श्री दिगंबर जैन पंचायत कमेटी ट्रस्ट के प्रवक्ता अंशुल जैन ने बताया कि राजधानी का यह पहला जैन परिवार है, जिसका दूसरा बेटा भी जैन मुनि बनने जा रहा है।

Posted By: Ravindra Soni

NaiDunia Local
NaiDunia Local