Bhopal Eye App बृजेंद्र ऋषीश्वर, भोपाल। भोपाल पुलिस बदमाशों पर निगरानी के लिए मध्य प्रदेश का पहला 'भोपाल आई ऐप' लांच करने जा रही है। इसकी तैयारियां अंतिम चरण में हैं। इस एप से जुड़ने वाले लोगों के घरों और दुकानों के सीसीटीवी फुटेज नए पुलिस कंट्रोल रूम के सर्विलांस रूम में दिखाई देने लगेंगे। इससे शहर का ज्यादातर हिस्सा पुलिस की निगरानी में आ जाएगा। इस तरह सीसीटीवी कैमरे लगे सूने घरों की सुरक्षा हो सकेगी।जानकारी के अनुसार 'भोपाल आई ऐप' को इंदौर की एक कंपनी के द्वारा तैयार किया जा रहा है। इसकी विशेषता है कि इसे डाउनलोड कर लॉगइन करने वाले लागों के घर, दुकान अथवा फैक्ट्री या किसी प्रतिष्ठान पर लगाए गए आईपी एड्रेस के सीसीटीवी कैमरे के फुटेज पुलिस की निगरानी में आ जाएंगे। पुलिस अपने नए कंट्रोल रूम के सिटी सर्विलांस से सीसीटीवी फुटेज देख सकेगी ।

ऐसे होगा उपयोग

'भोपाल आई ऐप' को यूजर को गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड कर सकेंगे। उसमें अपना नाम, पता, मोबाइल नंबर और ईमेल आईडी रजिस्टर्ड करना होगा। इसके बाद मोबाइल नंबर पर ओटीपी आएगा। इसे दर्ज करने के बाद एक ऑप्शन खुलेगा, जिसमें यूजर को खुद के द्वारा लगाए गए घर/दुकान अथवा फैक्ट्री के बाहर लगे आईपी एड्रेस के सीसीटीवी कैमरों डीटेल अपलोड करनी होगी। इसके बाद जीओ ट्रैकिंग के माध्यम से यूजर की लोकेशन पुलिस को मिल जाएगी और वह यूजर के घर की लाइव निगरानी अपने कंट्रोल रूम से कर सकेगी।

ऐसे अमल आया निगरानी का विचार

'भोपाल आई ऐप' बनाने के पीछे की कहानी काफी रोचक है। पुलिस चाहकर भी लोगों के घरों, दुकानों और संस्थानों में कैमरे नहीं लगा सकती है। लेकिन, लोगों द्वारा लगाए कैमरों की निगरानी कर सकती है। इस विचार के साथ पिछले कुछ महीने से पुलिस कंट्रोल रूम में एएसपी और डीआईजी इरशाद वली शहर के अस्पताल, ट्रांसपोर्ट, बैंक, कॉलोनियों के रहवासियों और प्राइवेट शिक्षण संस्थानों आदि के साथ बैठक कर रहे थे। सबसे अपील की गई कि वे अपने परिसर और उसके बाहर आईपी एड्रेस के सीसीटीवी लगवाएं। कई ने ऐसे सीसीटीवी लगवा भी लिए हैं। अब नए ऐप पर इनके फीड होने के बाद पुलिस शहर के बड़े हिस्से की निगरानी कर सकेगी।

पुलिस ने घूम-घूम देखे थे प्वाइंट

एमपीनगर जोन-1 में पुलिस ने व्यापारियों के आग्रह पर सर्वे कराया था, जहां सीसीटीवी लगाए जा सकते हैं। यहां 332 ऐसे प्वाइंट मिले थे। यहां सीसीटीवी लगने के बाद पूरा एमपीनगर का जोन-1 पुलिस की नजर में आएगा।

अपराधियों पर कसेगी नकेल

अभी 'भोपाल आई ऐप' की टेस्टिंग चल रही है। जल्द ही इसे लांच किया जाएगा। लोग ज्यादा से ज्यादा इसका उपयोग करें, ताकि अपराधियों पर नकेल कसी जा सके। इरशाद वली, डीआईजी

Posted By: Nai Dunia News Network