भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। गैसकांड की 37वीं बरसी पर गैस कांड के पीड़ितों को यंगशाला के युवाओं द्वारा अपने डांस के माध्यम से अनूठी श्रद्धांजलि दी गई। 19 युवाओं की टोली ने एक दूसरे के साथ अलग-अलग भाव भंगिमाओं के माध्यम से बहुत ही मार्मिक ढंग से गैस कांड, उसके बाद के संघर्ष और गैस पीड़ितों की मांगों को एक अनुक्रम में दिखाया। अपनी ही तरह की अनूठी इस श्रद्धांजलि में युवाओं ने तीन गीतों पर आधारित डांस किया, जिसमें से एक के बोल रहे...... तसल्लियों के इतने साल बाद, घिरे हैं हम सवाल से हमें जवाब चाहिए। ज्ञात हो कि यंगशाला, भोपाल के युवाओं का एक समूह है, जो कि अपनी अनूठी सांस्कृतिक अभिव्यक्तियों के लिए जाना जाता है। यंगशाला की इस श्रद्धांजलि के विषय में बताते हुए रोली शिवहरे ने कहा कि हमने डांस को इसलिए चुना, क्योंकि इसके माध्यम से यह बताना चाहते हैं कि हम कितने शांतिप्रिय ढंग से इन 37 सालों की यात्रा, संघर्ष और वाजिब मांगों को दिखा सकते हैं। उन्होंने कहा कि इसके लिए पिछले एक सप्ताह से तैयारी जारी थी। इसके अलावा युवा पीढ़ी इस इतिहास और दर्द को समझ सके। इस प्रस्तुति के लिए हमने इतिहास पढ़ा, तथ्य खंगाली और सभी युवाओं को गैस पीड़ित स्मारक की विजिट भी कराई, ताकि हम सभी तथ्यों को सटीक ढंग से प्रस्तुत कर सकें।

सभी लोगों ने सराहा

यंगशाला की इस प्रस्तुति को सभी लोगों ने सराहा। यह प्रस्तुति भोपाल रेल्वे स्टेशन, यूनियन कार्बाइड और न्यू मार्केट में की गईं। इस प्रस्तुति को लेकर गैस पीड़ित संगठनों ने बहुत ही सटीक प्रतिक्रिया दी। इस मौके पर मौजूद लोगों ने कहा कि हमने इस तरह की श्रद्धांजलि को पहली बार देखा है और यह बहुत ही अलग थी। उन्होंने कहा कि युवाओं का यह प्रयास बताता है कि हर आम आदमी कैसे कनेक्ट करता है इन मुद्दों से उन्होंने यंगशाला को धन्यवाद ज्ञापित किया। इस प्रस्तुति में शिवानी बाथम, अलका त्रिपाठी, इशिका, अग्नीता. जागृति सक्सेना, राहुल धुर्वे, ज्योति, रितिका जैन, निश्चल, रोशनी, रुचि सिंह, दीपक, अंशु, हर्षिता, दीपाली जावरे, प्रीति तथा मीनाक्षी सेन शामिल रहे। इस पूरी प्रक्रिया में यंगशाला की ओर से सुभाष गर्ग, अस्मा खान तथा गौरव म्हसे शामिल रहे।

Posted By: Lalit Katariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local