Bhopal Gas Tragedy Anniversary: भोपाल (नवदुनिया प्रतिनिधि)। यूनियन कार्बाइड के पास स्थित तालाब में इस बार फिर से सिंघाड़े उगाए जा रहे है। पास के रहवासी क्षेत्र के लोग यहां पर अवैध तरीके से सिंघाड़े को उगाने का काम कर रहे हैं और तालाब के पानी में पनप रहीं मछलियों को भी बड़े स्तर पर पकड़ा जा रहा है। नवदुनिया की टीम ने बुधवार को मौके पर पहुंची तो यहां पर कई लोग तालाब से मछलियां पकड़ते हुए दिखे। बातचीत करने पर पता चला कि ये लोग रोजाना यहां मछली पकड़ने पहुंचते हैं और तालाब में उग रहे सिंघाड़ों के सवाल पर इन लोगों ने जवाब दिया कि ये सिंघाड़े अपने आप उग आए हैं। इसके अलावा तालाब में कमल के फूल की खेती होते हुए भी दिखी। कमल के तने का उपयोग बड़े स्तर पर सब्जी के रूप में किया जाता है। टीम को देखकर पहले तो मछली के पकड़ने के कांटे को लपेट लिया, लेकिन टीम के वापिस जाते ही ये लोग फिर से मछली पकड़ने में लग गए।

खतरनाक हैं यह खाद्य पदार्थ

पूर्व में सरकार द्वारा यूनियन कार्बाइड के आसपास के 17 किमी के क्षेत्र में कराए गए अध्ययन से इस बात की जानकारी सामने आई है कि यूनियन कार्बाइड के तीन किमी के क्षेत्र के पानी में मस्तिष्क, गुर्दे और फेफड़ों को नुकसान पहुंचाने वाले रसायन मौजूद हैं। ऐसे में इन खाद्य पदार्थों में भी इन तत्वों की उपस्थिति हो सकती है। जिनका मानव शरीर पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है। मछली पकड़ने वालों में विशेष रूप से शिव शक्ति नगर और आरिफ नगर के लोग हैं।

यहां दबाया जाता था जहरीला अपशिष्ट

पूर्व में इसी तालाब में कारखाने से निकलने वाले अपशिष्ट और तालाब के जहरीले पानी को बहाया जाता था। इस तालाब का निर्माण भी कारखाने प्रबंधन द्वारा कराया गया था। ऐसे में इस तालाब में उगने वाले सिंघाड़े, कमल के तने और मछली को खाना हानिकारक हो सकता है।

हटाया जाएगा अतिक्रमण

पूर्व में भी लोगों ने यहां अवैध तरह से खेती शुरू की थी। उसे हमने हटाया था। मौके पर कल ही टीम को भेजकर जांच करवाएंगे और सिंघाड़े और कमल की खेती को नष्ट करवाएंगे।

- एमपी सिंह, अपर आयुक्त, नगर निगम भोपाल

Posted By: Ravindra Soni

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close